अजनबी दोस्त

अरुण गौड़

अजनबी दोस्त
(656)
पाठक संख्या − 17816
पढ़िए

सारांश

अजय का दिल टूट चुका था, वो दिशा की ये वेबफाई बरदाशत नही कर सकता था, आखिर इस दर्द, से छुटकारा पाने का बस ये ही आखरी उपाय था उसके पास, वो यह दुनिया ही छोड दे। अपनी इस दर्द भरी जिंदगी को विराम देने के लिये उसने आखरी कदम उठाया और वो मौत से गले लगने ही वाला था की तभी पीछे से किसी की आवाज आयी, ‘हैलो, क्या कर रहे हो’...........
Ramanand Saxena
very nice story
रिप्लाय
Rupali Sonwane
very true
रिप्लाय
Yashas Srivastava
Bahut Umda
रिप्लाय
Madhu Saxena
अच्छी कहानी है
रिप्लाय
Shikha Gupta
Wah superb story ..
रिप्लाय
Simmi Tuli
Nice
रिप्लाय
Hira Singh MEHRA
बहुत प्रेरणादायक कहानी है।उन नादानों के लिए जो अपने प्रेम के चक्कर मे असली प्रेम करने वालों से व जिंदगी की लीला को समाप त कर बैठते हैं।
रिप्लाय
हेमंत यादव
very very nice story 👌👌👍👍💐💐💐
रिप्लाय
Sangita Ajmera
mo
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.