अंधेरा कायम रहे - 2

Aman aj

अंधेरा कायम रहे - 2
(46)
पाठक संख्या − 3769
पढ़िए

सारांश

यह कहानी का दुसरा हिस्सा है । कहानी काफी बड़ी रहने वाली हे । यह कहानी काल्पनिक है कहानी लिखने का शौक होने के कारण इसे लिखा गया है और कोशिश की गई है कि अगर ऐसी कोई कहानी बनती है तो कैसे बनेगी । आप भी इसका लुत्फ उठाइए ।
Mahvish Khan
Apki kahani nidhi to puri ni huyi lg rhi h kya uske aur v part honge ya utni hi h samjh ni aayi wo kahani
नन्दीश्वर द्विवेदी
हम इस कहानी को पढ़ चुके है
Khushboo Shukla
bhut accha likhte ho ap
Preeti Karn
बहुत ही अच्छी कहानी है
रिप्लाय
Rishabh Shukla
behtreen
रिप्लाय
Yesh Rathore
बहुत ही बढ़िया
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.