अंधेरा कायम रहे पार्ट-20

Aman aj

अंधेरा कायम रहे पार्ट-20
(38)
पाठक संख्या − 1559
पढ़िए

सारांश

*** ठीक इसी वक्त वृष वंदन के बाहरी दरवाजे का दृश्य चांद की चांदनी रोशनी से वृष वंदन का बहरी गेट अजीब तरीके से चमक रहा था । बीच-बीच में काले बादल कुछ समय के लिए चांद को जरूर ढक रहे थे पर बादल भी गेट ...
Pallav Garg
भाई इस उपन्यास पर तो एक फिल्म बन सकती है
रिप्लाय
Harshi Mishra
daily part padhne ko mile to koi problem nahi h.... Waise Bahut acchi story h
रिप्लाय
Rashmi Darwai
ye kya story h palat di tumne to aj pr bhot mst story h next part jldi update krna ab
रिप्लाय
Ganesh Bhosle
chote hi sahi but hai interesting
रिप्लाय
Prashant Khalkho
अच्छा लगा यह जानकर कि अब रोज पढ़ने को मिलेगा। आपकी कहानी में जिज्ञासा बढ़ती जा रही है। आगे क्या होगा ये जानने की उत्सुकता है।
रिप्लाय
Rajan Gupta
best
रिप्लाय
Manoj Kumar
badhiya, part bahut chhota laga pr daily padhne ko mile to bat ban jaye, abhi bahut romanch baki hai dekhte hai aage kya hota hai
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.