एक और कारगिल

संतोष श्रीवास्तव

एक और कारगिल
(66)
पाठक संख्या − 4671
पढ़िए
भूपेन्द्र चौहान
मै समझ नहीं पा रहा हूँ की कोई किसी शहीद की विधवा के प्रति ऐसी सोच रख कर कैसे लिख सकता है , बकवास
Usha Saxena
bahut hi sundar kahani Hai ..dil ko chhu gyi
Sangita Sharma
Bahut hi achchi or emotional story.
नीरज शर्मा
अपने अपने स्वार्थों ने जोड़ रखा था संबंंधोंको। बहुत खूब
Shiv Nath Pathak
मर्मस्पर्शी।
Chander Shekhar
हे ईश्वर, इतनी अंतर्वेदना
Suman Srivastava
जवाब नहीं संतोष जी आपका
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.