एक ख़त में ठहरा इश्क़

ऋषभ आदर्श

एक ख़त में ठहरा इश्क़
(71)
पाठक संख्या − 3370
पढ़िए
Akanksha Ahuja
दुनिया के हर दर्द से बड़ा है ये दर्द... काश ये होता.. और ये होता तो ऐसा होता
Ankush Kumar
कितना तरपते है ये दिल ये सोच के, काश जिंदगी में, काश शब्द का इस्तेमाल करने का वक्त ना आता
Emran Albux
बहुत खूब
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.