रात और रास्ता

रीत शर्मा

रात और रास्ता
(81)
पाठक संख्या − 6394
पढ़िए

सारांश

यह किस्सा मैंने अपने बचपन मैं सुना था उस समय जो रोमांच और डर का एहसास हुआ था उसीको मैंने शब्दो मैं ढालने का प्रयास किया है
Bhavani Thalia
डर के बजाय हँसी ज्यादा आयी
मुफज़्ज़ल हुसैन
इस तरह की कहानियां पहले भी पड़ी है फिर भी अच्छी लगी। 3 स्टार।
Keshav Yadav
mam ye kahani hame bachpan me meri di ne sunae thi.
Gautam Yadav
ऐसी एक कहानी मैंने अपने क्लास टीचर से सुनी थी । ,☺ but its a nice story .
PU Nit
आपकी कोशिश सराहनीय है।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.