लाडो-बिटिया क्यों तुझे आज स्कूल नहीं जाना है ? कितनी देर हो गयी !!! उठ जा मेरी लाडो स्कूल में लेट हो जायेंगी तो तु आगे कैसे बढ़ेंगी ?तेरे भविष्य के लिए ही तो यह कुंदाल और फावड़ा हाथ में लिया है ताकि तेरी पढ़ाई में कोई दिक्कत नहीं आए |लाडो मै नहीं चाहती की तेरी भी जिंदगी मुझ जैसी हो |तेरे बापु को तो जिम्मेदारी कभी समझ नहीं आयी ,रोज के पैसे कमाना और दारू में उड़ाना |उठ जा बेटा ..लाडो बिस्तर से बेमन उठी और माँ से लिपट गयी .क्या हुआ बेटा ,कुछ कहना है तुझे !!!! लाडो ने अपने आँखों का पानी आँखों में ही समेट लिया |और स्कूल जाने के लिए तैयार हो गयी |स्कूल से दौड़ते हुए सीधा अपनी माँ के काम पर रोते -रोते पहोची !!और माँ को देख लिपट कर बहोत रोने लगी |लाडो की ऐसी हालत देख ,माँ का दिल बैठ गया |उसने लाडो को शांत कराया और पूछा क्या हुआ बेटा ??? लाडो रोते -रोते बोली अम्मा वह स्कूल का टीचर गन्दा है .गन्दी नजरों से देखता है और कही भी छूता है !! अम्मा उसका छूना मुझे अच्छा नहीं लगता !!!!! उसने आज भी .......... माँ के पैरो से जमीं खिसक गयी ,उसने खुद को संभालते हुए , बेटी का हाथ एक हाथ में और एक हाथ में कुदाल लेकर सीधे स्कूल में पहोची .बेटी से टीचर की पहचान कराई और कॉलर पकड़ कर घसीटते हुए स्कूल के बाहर लेकर आयी और सबके सामने अपनी ताक़त का परिचय दिया |उसका यह रूप देखकर सब डर गए |उसने वहां नजारा देखते लोगो से ,अपनी बेटी से और बाकि बच्चियों से कहा ,इस तरह के लोग छोटी -छोटी बच्चियों को भी अपनी हवस का शिकार बनाना चाहते है |परन्तु जब तक स्त्री अपनी ताक़त ,अपना क्रोध ,खुद के ऊपर हो रहे अन्याय -अत्याचार छुपाएँगी !खुद बर्दाश्त करेंगी .तब तक इस जैसे जानवर हर घर में पैदा होंगे |जो खुद की बेटी ,बहु ,बहनो को भी गन्दी नजर से देखता है|जिस किसी बच्ची के साथ कही भी ऐसा हो वह बिना डरे अपने माता पिता को बताये | माता -पिता ने भी बदल रहे अपने बच्चो के व्यव्हार पर नजर रखे |क्यंकि बहोत से बच्चे डर की वजह से कुछ बता नहीं पाते है और खुद में ही सिमट कर रह जाते है | बड़ी अनहोनी होने से पहले ही गुनाहो को रोकिये |आज अगर मै अपनी बेटी की बात इज़्ज़त के डर से छुपाती तो यह फिर किसी को अपनी हवस का शिकार बनाता |और सबने मिलकर उसे पोलिस के हवाले कर दिया |

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.