#मी टू

"दीदी, ये क्या सुन रहा हूँ आपने भी #मी टू में बोल दिया, आपको घर की इज्जत की कोई परवाह है कि नहीं ..र ररीमा का कॉलेज जाना मुश्किल हो जाएगा और मैं और तुम्हारी भाभी कहीं मुँह दिखाने लायक नहीं रहे।" सपना के भाई ने एक सांस में सब बोल दिया।वह इतना क्रोध में था कि उसने सपना को बोलने का मौका ही नहीं दिया।

"जब तुम्हारे जीजा जी ने  मुझे घर से निकाल बाहर किया था तब तुम दोनों ने मुझे सहारा नहीं ...।""बस मुझे कुछ नहीं सुनना।आप अभी मीडिया में स्टेटमेंट दो और अपना कहा वापिस लो।"उसकी बात काटते हुए वह बोला।
"हरगिज नहीं।" सपना  जोर  से चिल्लाई और उसने फोन काट दिया। फोन काटते ही फिर से बजने लगा।
गुस्से के कारण वह काँपने लगी।उसने फोन उठाया ।अबकी बार दीदी थी।

"सपना, ये क्या बचपना है तुमने ये क्या कर दिया ? तुम्हारे और "सी" क्लास हीरोइन में क्या फर्क रह गया है जो पब्लिसिटी के लिए कुछ भी बोल देती है,अभी के अभी अपना कहा वापिस लो।"नीता दीदी जोर-जोर से उस पर चिल्ला रही थी पीछे से जीजा जी के भी गुस्से से बोलने की आवाज आ रही थी।

सपना अपने गुस्से को संयत करते हुए बोली,"दीदी, आप सब से जब मुझे मदद की जरूरत थी तब आप लोग कभी मेरे साथ खड़े नहीं हुए, तब भी जब मुझे मेरे ही  घर से बाहर निकाल रमेश ने दूसरी शादी कर ली और तब भी जब  मैने आप सब को बताया था कि मेरा बॉस मुझ पर गंदी नजर रख रहा है...दीदी ,आपने कभी दुबारा पूछा नहीं कि मैंने कैसे उनसे निबटा।आज  आप सबको मेरे बोलने पर एतराज है !क्यों दीदी?"

दीदी अपने में बड़बड़ाए जा रही थी और सपना को उनके कहे का जैसे कुछ असर हो ही नहीं रहा हो वह अपने में बोलती जा रही थी,"दीदी, अभी तो मैने बोलना सीखा ही है,बचपन से आप सबने मुझे सिखाया ऐसे चलो,धीरे बोलो और बड़ों का कहना मानो पर कभी अपने पर होने वाले अन्याय के खिलाफ बोलना  तो सिखाया ही नहीं। वास्तव में मैं   #मी टू आप लोगों के लिए  अभी और इसी समय शुरू कर रही हूं आप सब के कारण  आधी उम्र बीत गई वो हिम्मत पैदा करने के लिए...।" सपना को बोलते -बोलते एहसास हुआ कि दीदी ने फोन काट दिया है।
दीवार पर लगे आईने में अपने नए प्रतिरूप को देख कर वह भी हैरान थी सपना का पुनर्जन्म हो चुका था।

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.