गुड मोर्निंग सर, गुड मोर्निंग मैडम, गुड मोर्निंग फ्रेंड्स..

“गुड मोर्निंग” आजकल के दौर में यह एक ऐसा अभिवादन हैं जिसे हर घर, हर ऑफिस,हर रिश्ते-नाते प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से आदमी एक दुसरे को बोलता हैं याफिर बोलना या सुनना चाहता हैं | दुसरे शब्दों में कहें तो यह हमारे भारतीयपरंपरा “नमस्कार” का एक दूसरा रूप हैं | मैं आपको इस विषय पर अपना ज्यादाविशलेषण तो नहीं दूंगा पर हाँ इससे जूरी एक घटना मैं आपको जरूर बताना चाहूँगापर उससे भी पहले मैं अपने बाड़े में बता दूँ |

राजू यानि मैं पेशे से एक मेडिकल लैब तकनीशियन हूँ, ये बात उस समय की हैं जबमुझे मेरे काम को मेहनत और लगन से करने के उपलक्ष में हमारे हॉस्पिटल ने मुझेबेस्ट एम्प्लोयी के लिए चुना था | मैं बेहद खुश था क्योंकि मुझे ईनाम के रूपमें पुरे पांच हजार का एक चेक और बेस्ट एम्प्लोयी का सर्टिफिकेट भी मिला था |खैर ये बात उस अस्पताल की नहीं हैं मेरा विषय तो उसी दिन की उस शाम से हैं जबमैं हॉस्पिटल से अपनी ड्यूटी कर अपने रूममेट दीपक के साथ पढाई करने अपनेइंस्टिट्यूट गया था |

जी हाँ, उस दिन चुकी मुझे हॉस्पिटल में ईनाम और सर्टिफिकेट देने के लिए छोटासा समारोह का आयोजन किया गया था इसलिए मुझे इंस्टिट्यूट आने में भी देरी होगयी थी, एक मैडम का एक क्लास तो पहले हीओ ख़त्म हो चूका था उसके बाद दूसरीक्लास के लिए मैं वहां पंहुचा था |

“और कैसे हो, बहुत फ़ोन किये न.? मैं क्या बताऊँ..?” मैडम के जाने के बाद खालीक्लास में बैठ मैंने मुस्कुराते हुए नाराज़ दीपक से उसका हाल खबर लिया |

“पहले तू बता कैसा रहा तेरा अवार्ड फंक्शन, बोला था पांच मिनट में आ जाऊंगा औरइतनी लेट कर दिए | आज ऐसे काम नहीं चलेगा, पार्टी तो देनी ही होगी” दीपक नेसभी को सुनाते हुए तेज़ आवाज़ में मुझसे बोला |

“ये देखो न..” इतना बोल मैंने अपना बैग खोल बेस्ट एम्प्लोयी कासर्टिफिकेट एवं 5000का चेक़ निकाल दीपक को दिखाया | वह बहुत खुश हुआ, पर उतना खुश नहीं था जितनामैंने सोचा था | कारण ये था की जो अगला क्लास टीचर आने वाला था वो बिलकुल हीखडूस था, आप उसे फिल्म ‘थ्री इडियट्स’ के प्रोफेसर से तुलना कर सकते हैं यायूँ कहे बिल्कुल वही ही था | उस प्रोफेसर के आने का समय हो गया था | सभीअपना-अपना दिमाग लगा रहे थे वो खरूस टीचर पता नहीं किस मूड में आएगा, आज क्यापढ़ायेगा ??

“क्या हैं भाई, कैसा हैं.. कहीं कुछ जीता हैं क्या ?” दीपक को देख, रोहन औरमेरे पास बैठे और भी लड़के मुझसे पूछने लगे |

इससे पहले की मैं अपना उपलब्धि के बाड़े में सबको बताता, तभी नाम लेते शैतानहाज़िर वाली कहावत हो गयी | अपने हाथ में एक फाइल लिए लम्बे-चौरे, मोटे, गोलचश्मा जिसकी रस्सी पीछे की तरफ गले में टंगा हुआ था, ऐसे खडूस टीचर का नाम थाप्रोफेसर “जे. के. जैन” जो अब हमलोगों के सामने क्लास में आ चुके थे |

सभी स्टूडेंट्स उन्हें देख गुड इवनिंग सर, गुड इवनिंग सर बोलने लगे | मैं हीएक अकेला ऐसा बंदा था जो शाम के समय में भी उन्हें गुड इवनिंग के जगह“गुड-मोर्निंग” सर बोला | चुकी सबसे तेज़ और अंत में मेरी आवाज ही उन्हें सुनाईदी इसलिए जवाब में वे भी “गुड मोर्निंग” बोल दिए |

अपने मुह से ही वो ‘गुड-मोर्निंग’ बोल खुद के हाथ में पहने हुए घड़ी को देखे औरअपनी दोनों भौं और ललाट सिकुराते हुए बड़ी बड़ी आँखों से हमें देख, “हुंह... गुडमोर्निंग !! गुड इवनिंग हैं की गुड मोर्निंग, अभी गुड मोर्निंग कौन बोला..?”

प्रोफ़ेसर के इस तरह के भयावह चेहरे को देख डरे हुए सभी स्टूडेंट्स एक दुसरे कोदेख रहे थे, मैं भी एक सामान्य स्टूडेंट्स के जैसे ही दीपक को देख रहा था, दीपकभी सोच रहा था क्या “बिना मतलब का तूने प्रोफेसर मखंचू से पंगा ले लिया औरमुझे देख धीरे से मुस्कुराया”

“मुझे देख हस रहे हो..” दीपक को मुस्कुराते देख प्रोफेसर जैन साहब और गुस्सेहो गए |

ऐसे तो वो गणित और भौतिकी के HOD थे, अपने विषय की भांति ही उनकी प्रविर्ति भीप्लस-माइनस होते रहता था | पता नहीं कब कैथोड एनोड के संपर्क में आ जाये औरचिंगारी निकल पड़े, हम दोनों को काना फूसी करते देख प्रोफेसर जैन साहब ने दीपकको अपने पास बुलाने लगे | दीपक मेरे पास से उठ उनकी बात मान वहां जाने लगा |

“हाँ, तो सभी लोग कान खोलकर सुन लो मैं आज कोई मैथ या फिजिक्स का क्लास नहींलूँगा” प्रोफेसर दीपक के कंधे पर अपना हाथ रख तेज़ आवाज में दीपक को मुहरा बनाहम सब से बोलने लगे |

प्रोफेसर जैन साहब की बातें सुन सब मौन थे पर मैं तो मन ही मन ये सोचकर खुश थाकी “लग रहा हैं की प्रोफ़ेसर साहब गणित न पढ़ाकर आज दीपक को जमूरा बनायेगा औरगाँव के जैसा मदारी वाला खेल दिखने वाले हैं | ऐसे भी मुझे सब्जेक्ट से अलग हटकर बातें करना अच्छा लगता था |

“ये अब दीपक के साथ क्या करने वाले हैं..?” मेरे पास बगल की कुर्सी पर बैठा रोहनभी सोच रहा था |

“मैंने डिसाइड किया हैं की आज तुम सब का पर्सनालिटी डेवलपमेंट को चेक करने केलिए इंटरव्यू लूँगा, सबको एक-एक करके बुलाता हु, देखते हैं आज तक तुमने क्यासिखा हैं, तैयार हो..?” प्रोफ़ेसर ने हम सब से इतना पूछ दीपक को वही एक कुर्सीपर अपने सामने बैठने को बोले |

“राजू, यार ये प्रोफेसर मखंचू दीपक से क्या पूछेगा..?” रोहन ने मुझे पूराकॉन्फिडेंट के साथ बैठा देख धिमी आवाज़ में फुसफुसाते हुए पूछा |

“चुप कर नहीं तो वो अब तुझे भी बुला लेगा” मैंने कहा |

प्रोफेसर ने अब हमारी आवाज भी सुन लिया और मेरी तरफ उंगली का इशारा करते हुएबोले “इसके बाद अगला नंबर तुम्हारा” मैं तो फसा,

“टेल मी, हु आर यु..?” एक इंटरव्यूअर के जगह खरुष प्रोफेसर दीपक को डराते हुएउससे पहला प्रश्न किये |

“सर, माय नेम इज दीपक पटेल, आई ऍम स्टूडेंट ऑफ़ BA थर्ड इयर जियोग्राफीऑनर्स, फ्रॉमबनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी, अल्सो प्रेप्यरिंग फॉर सिविल सर्विसेज एग्जामिनेशनइन दीस इंस्टिट्यूट, माय फदर नेम इज ब्रिज बिहारी पटेल, आई एम् फ्रॉम गोपालगंजबिहार” ये बोलकर दीपक रूक गया और प्रोफ़ेसर को देखने लगा |

हम सब ये सोच रहे थे की प्रोफ़ेसर मखंचू ये कहेगा “गुड, वैरी नाईस” और पहलेसही जवाब के लिए ताली बजाने को कहेगा, पर ये क्या..?

“तुम ये जवाब दोगे ? ऐसे UPSC का एग्जाम पास करोगे ? तुम्हे तो अभी तक ये नहींपता की अपने बाड़े में सही से एक्सप्लेन कैसे करना हैं.. कहते हो सिविलसर्विसेज की तैयारी कर रहा हु | तुम्हारे जैसे लड़के ही अपने माँ-बाप के मेहनतके पैसे को बर्बाद करते हैं” वो तीर का तार बनाते हुए दीपक से चिल्लाते हुएबोलने लगे |

“ये इधर देखो अपनी सकल, कितना डरे हुए लग रहे हो | मैं शेर हूँ, जो तुझे निगलजाऊँगा, सही से बैठने तक नहीं आता” जैन साहब ने दीपक को पीछे की शीशे की दीवालमें खुद को देखने को कहे |

प्रोफ़ेसर जैन की डांट को सुन, दीपक बिलकुल हतास हो रहा था, दीपक को वास्तव मेंउसके सामने थोडा और कांफिडेंट होना चाहिए था, पर क्या करता उसे थोड़ा भी सोचनेका वक़्त नहीं मिला था |

खैर, उसे और कॉंफिडेंट होने की सिख तो जरूर मिल रही थी | हम सब दीपक को देखरहे थे, पर मेरे दिमाग में तो अब प्रोफ़ेसर जैन की वो आवाज सुनाई दे रहा था “इसकेबाद अगला नंबर तुम्हारा”, फिर भी मैं तो आज पहले से ही लेक्चर सुनकर और देकरभी आया हुआ था इसलिए अपनेआप पर भरोसा कर थोड़ा उत्साहित हुआ |

“इंटरव्यू में जाओगे और ऐसे ही चुप होकर बैठ जाओगे, तब तो बन चुके आई.ए.एस | एकबात गाँठ बांध लो, जब भी कोई इंटरव्यूअर तुम्हारे बाड़े में पूछे तो बस चालू होजाओ, ये मत सोचो की मैं कितना पढ़ा हु या मेरा इंटरव्यू लेने वाला कितना पढ़ाहैं | बस, बताते जाओ, जितना गहराई में जा सको उतना अपने बाड़े में बताओ | नाम, पता,एजुकेशन, फॅमिली डिटेल तो बताना ही हैं, इसके अलावे अपनी खूबी, अच्छी आदतें, बुरीआदतें और, बचपन से लेकर अभी तक के सभी बातें बोल डालो और तबतक बोलते रहो जबतककी वो तुम्हे बोलने से न रोके | ये मत सोचो की हिंदी में बोलना ठीक नहीं हैं, लोगक्या सोचेंगे, या इंग्लिश में बोलने से लोग प्रभावित होते हैं, ये सब बेकार कीबातें हैं, तुम्हे जो सुविधा लगे उसी भाषा में बोलो और खूब बोलो, कांफिडेंट केसाथ बोलो” जैन साहब जो कभी आई.ए.एस. के प्री तक नहीं निकाले थे वो आज दीपक कोइंटरव्यू की ये टिप्स दे रहे थे |

“जी सर, हाँ सर” दीपक उनकी बातों में हां में हां मिला रहा था, करता भी क्यामजबूरी थी |

यही तो बात होती हैं जब किसी मैथ के टीचर से इतिहास पढ़वाने लगो, बिना दीपक कीएक सुने वो अपनी बातें बोले जा रहे थे, मेरे पास बैठा रोहन अब चिंचित हो रहाथा क्योंकि मेरे बाद उसे ही बुलाया जाना था, उतनी लड़कियों के बिच उसके इज्ज़तका सवाल था | उधर प्रोफ़ेसर दीपक से इंटरव्यू लेना जारी रखा था तभी मेरे मोबाइलपर अब माँ का फोन आ गया | मैंने उनसे इज़ाज़त लेकर क्लास रूम के बाहर माँ से बातकरने चला आया |

“माँ प्रणाम,” मैंने बोला,

“खुश रहो, और कैसा रहा, खाना खाए..? आज, मैंने सपने में देखी की मेरे बेटे कोदस हजार रुपये का इनाम मिल रहा हैं और तुम बहुत खुश हो” माँ बोली,

“हाँ माँ, आज तो मैं सच में बहुत ख़ुश हूँ, जानती हो पुरे हॉस्पिटल में तेरेबेटे की चर्चा हो रही हैं” मैंने गर्व के साथ माँ से बोला,

“तब..? कितना पैसा मिला हैं” माँ बहुत खुश थी |

मैं माँ की ख़ुशी देख खुश तो था पर उसकी पैसे वाली बात सुनकर मुझे बहुत बुरालगा |

दरअसल मैंने बचपन से ही दोनों परिस्थियों को देखा था | पहला पापा की बात, वोअक्सर कहते हैं बेटा तुम पैसे की फ़िक्र मत करना जबतक मैं जिन्दा हु, तुम्हेकोई दिक्कत नहीं होगा, तुमको जो अच्छा लगे करना, मैं तुम्हारे हर ख्वाईस कोपूरा करूँगा | दूसरी तरफ वो माँ को हर महीने जो पैसे भेजते थे उसमे ही घरचलाना था इसलिए माँ का कष्ट भी देखा था | माँ कैसे-कैसे घर चलाती थी और मेरेहर फरमान को पूरा करते रहती | आज जब मैं कमाने लगा तो मैं ये नहीं देखना चाहताथा की माँ को कोई पैसे को लेकर तकलीफ़ हो, मैं इसीलिए तो पढ़ाई की उम्र में हीनौकरी करना शुरू कर दिया था |

“माँ पुरे 5000 का चेक मिला हैं, मैं दो-तीन दिन में ही तुम्हे भेज दूंगा, औरहां अपना ख्याल रखना, कोई दिक्कत मत सहना, अब मैं कमा रहा हु” मैंने हिम्मत केसाथ माँ से कहा |

“बेटा तुम छोड़ दो काम, और चले आओ मेरे पास, तुझे देखने का मन कर रहा हैं, बसतुम मेरे पास रहोगे तो मुझे कोई दिक्कत नहीं होगा, नहीं चाहिए पैसा” अब उधरमाँ इतना बोल फोन पर रोने लगी |

अब तो कुछ ज्यादा ही इमोशनल अत्याचार होने लगा, “चुप हो जाओ, मैं जल्द ही घरआता हु, अभी मैं पढाई के लिए इंस्टिट्यूट आया हु, अब फोन रखता हु मैं, कमरे परपहुचकर फोन करूँगा | अच्छा ‘प्रणाम’ मैंने जल्द ही इतना शब्द बोला |

माँ ने फोन पर आशीर्वाद दी और मैं कॉल समाप्त कर दोबारा क्लास रूम के दरवाजेखोल अंदर आ आया | आया तो देखा की दीपक से आखिरी प्रश्न पूछा जा रहा था “दीपकएक आख़िरी प्रश्न तुम ये बताओ, अभी जो तुमने बोला भारत ग़ुलाम बन गया | मेराप्रश्न ये हैं की, भारत 200 साल तक अंग्रेजों का ग़ुलाम रहा, पर कैसे..? व्हाटइज द रीज़न..?”

“सर अक्चुली दैट टाइम” दीपक ने इतना ही बोला था की प्रोफ़ेसर ने उसे रोकते हुएकहा, ‘उन्हूँ.. हिंदी में बताओ”

“सर उस समय हमारे देश में राज्य तंत्र के जैसा था, हर राज्य जो आज के एक राज्यसे बहुत छोटा हुआ करता था, या यूँ कहें वे राजा न होकर एक जमींदार थे | चुकीहमारा देश तो बड़ा था पर टुकड़ो में बटा हुआ था, अंग्रेज इसी का फायदा उठाये | सोलहसौ इसवी में अंग्रेज व्यापार करने हमारे देश भारत आये और धीरे धीरे उनजमींदारों को अपनी कूटनीति से बहला फुसला कर हमारे पुरे देश को एक कर, उसकानाम ‘इंडिया’ रख दिए और उसपे हुकूमत करने लगे” दीपक ने गंभीरता से जवाब दिया

“हाँ कही हद तक सही जवाब हैं पर, अभी जाकर पढो, ऐसे काम नहीं चलेगा” पहली बारदीपक के जवाब में प्रोफ़ेसर का समर्थन था, अपनी हाथ के इशारों से दीपक को जानेको कहा और अपनी तेज़ निगाहों से हमें ढूंढते हुए मैं जो अब पहले की शिट से उठकरपीछे की तरफ जा बैठा था, मुझे उंगली दिखा अपने पास आने को कहे, मैंनेमुस्कुराते हुए कुर्सी से उठ सीधे प्रोफ़ेसर की तरफ जाने लगा |

“पहले ये बताओ क्या नाम हैं तुम्हारा” प्रोफ़ेसर ने मुझसे पूछा,

सच बताऊँ तो मुझे ऐसे लग रहा था जैसे कोई शाहरुख़ खान से उसका नाम पूछ रहा हो, अरेभाई मैं भी आज कोई सेलिब्रटी से कम थोड़ी न था, हाँ ये बात अलग था की मैंहॉस्पिटल में काम करते हुए बेस्ट एम्प्लोयी बना था |

“जी सर, राजू” मैंने अपना नाम बताया |

“चलो, बैठ जाओ, और आजकाल कितने घंटे पढाई करते हो” प्रोफ़ेसर मुझे बैठने के लिएकुर्सी की ओर इशारा किये और खुद कुर्सी पर बैठ गए,

“सर मैं तो दीपक के वजह से, आज-कल थोडा बहुत पढ़ लेता हु | ऐसे तो मैं दिनभरहॉस्पिटल में ही काम करने में बहुत ब्यस्त हो जाता हूँ, पढने की फुर्सत कहामिलती हैं” मेरे दिमाग में पता नहीं कैसे वो बात करने का आत्मविश्वास आ गया, मैंनेकुर्सी पर बैठते हुए उनसे एक अलग व्यवहार में बोला |

“दीपक ! अच्छा तो तुम दीपक के साथ रहते हो, बच के रहना वो केवल अपना समय औरपैसा बर्बाद कर रहा हैं” उसने दीपक की ओर देखते हुए मुझसे बोले |

उनकी जवाब सुनकर मेरा तो खून जैसे किरोशिन की स्टोव पे 100 डिग्री सैल्सिअसपर खौलने लगा | दीपक कितना अच्छा लड़का हैं, दिन-रात पढाई करते रहता हैं, न कोईनशा, न कोई गलत संघत, न किसी लड़की का चक्कर, आज के जमाने वैसा लड़का ढूंढने नेनहीं मिलता और वो उसके बाड़े में ये सब क्या बक रहा हैं |

“सर एक बात बोलूं” मैंने बोला ,

“हाँ बोलो, क्या मैं गलत बोल रहा हूँ..?” प्रोफ़ेसर ने इतना बोल मुझे बात रखनेकी इज़ाज़त दिए |

“नहीं सर आप सही बोल रहे हैं, पर मैं कह रहा था की क्या ऐसा हो सकता हैं की आजआप मेरा इंटरव्यू न लेकर मैं आपका इंटरव्यू लूँ, सही रहेगा..?” मैंने पुरेआत्मविश्वास के साथ प्रोफ़ेसर से यह प्रश्न पूछ बैठा |

“कोई बात नहीं, तुम ही लो मेरा इंटरव्यू, पर एक बात ध्यान रखना... , प्रश्नमेरे लेवल का होना चाहिए, कोई ऐसा-वैसा फालतू क्वेश्चन मुझसे मत पूछना” मेरेप्रश्न सुन वो घबराते हुए जवाब दिए |

“बिलकुल सर, आप निश्चिन्त रहें, इसका पूरा ध्यान रखूँगा” मैंने कहा |

“पहला प्रश्न, टेल मी योरसेल्फ” किसी फिल्म के हीरो जैसा मैं उनका जवाब उन्हीके भाषा में दे रहा था, मेरा पहला प्रश्न भी उनके प्रश्न से जैसा ही था,

बेचारे प्रोफ़ेसर साहब अपना गला साफ़ करते हुए उहू..हु... “हाँ, ऐज यु नो माईसेल्फ प्रोफ़ेसर जे. के. जैन, हेयर आई ऍम द एच.ओ.डी. ऑफ़ मैथ एंड फिजिक्स, यु नोदेयर इज मेनली 5 प्रोफ़ेसर इन दीस इंस्टिट्यूट, बट इन रैंकिंग आई एम् द फर्स्टएंड फेवेरेट प्रोफ़ेसर ऑफ़ इच एंड एवरी स्टूडेंट्स” उनके मुह से उनकी खुद कीइतनी प्रशंसा सुन मुझे क्या, क्लास के किसी भी स्टूडेंट्स से हजम नहीं हो रहाथा, मैंने रोहन और दीपक की तरफ देख ये महसूस कर रहा था की वे दोनों भी मन हीमन मुझे प्रोफ़ेसर से और जटिल से जटिल प्रश्न पूछने को कह रहे हो |

खैर, प्रोफेसर जैन की बात सुन मैंने एक इंटरव्यूअर की भांति उन्हें बिच मेंही टोकते हुए उनकी अपनी सही और तर्कपूर्ण जानकारी देने को अंग्रेजी में कहा |

“ओके.. ओके” उन्होंने अपना हाथ आगे की तरफ करते हुए मुझसे बोले |

मैंने भी अपना हाथ हवे में उठाते हुए उनसे सीधे शब्दों में “कैर्री ऑन” बोला,

मेरे ऐसे सुझाव और पूछने के भाव को देख प्रोफ़ेसर मन ही मन बहुत गुस्स्से थे, येकैसे बद्तमीजी से बोल रहा हैं पर मैं भी आज मन में ठान लिया था, आर या पार |सभी लड़के/लड़कियां मेरे तरफ देख रहे थे और मन ही मन खुश भी थे |

प्रोफ़ेसर साहब ने लागातार 3-4 मिनट तक अपने बाड़े में, अपने माँ-बाप के बाड़े में,पढाई और पढ़ाने तक के पुरी बात साथ में अपने गाँव शहर और समाज की बातें भी बोलेजा रहे थे, मैं चुप मार के उन्हें सुन रहा हु, मुझे तो दीपक का इंटरव्यू दिमागमें चल रहा था, तभी वो एक गिलास पानी पीने की मांग किये |

मैंने हाउस कीपिंग के जगह रोहन से कह उनके लिए ठंडा पानी मंगवाया |

“राजू दूसरा प्रश्न तुम्हारे दिमाग में आया की नहीं, या मेरे बाड़े में और कुछजानना चाहते हो..?” पानी पीकर ग्लास टेबल पर रखते हुए उन्होंने मुझसे बोला |

“हैं न सर दूसरा प्रश्न, टेस्ट क्या होता हैं..? और यह कितने प्रकार का होताहैं ?” मुझे मालूम हुआ की प्रोफेसर अब थक गया, इसलिए मैंने तुरंत उनसे दूसराप्रश्न पूछ बैठा |

“टेस्ट.. ओ !!, तो तुम हॉस्पिटल में काम करते हो न, मुझे भी पता हैं | टेस्टइज द प्रोसेस जिससे हम पता करते हैं की किसी मरीज़ को कौन सी बिमारी हैं यानहीं हैं | इसके बहुत सारे प्रकार हैं, जैसे ब्लड सुगर टेस्ट, ब्लड प्रेशरटेस्ट, कोलेस्ट्रॉल टेस्ट, वगैरह वगैरह” मेरे प्रश्न से खुश होकर उन्होंनेआत्मविश्वास के साथ जवाब दिया |

“बिलकुल गलत..” उनकी बात को मैंने काटते हुए बोला |

“टेस्ट तो टेस्ट हैं सर, यह कोई मरीज़ के लिए ही क्यों..? इसे तो एक स्वस्थव्यक्ति भी करा सकता हैं | रही बात मेरे प्रश्न की तो आपने यह गलती किया कीहमारे प्रश्न को पहले सही से समझे नहीं | मैंने यह पूछा था की टेस्ट क्याहैं, इसकाबहुत ही साधारण जवाब हैं, जिसे हम अपनी आँखें बंद करके सिर्फ और सिर्फ जीभ केद्वारा पहचान सके उसे टेस्ट कहते हैं | टेस्ट के चार प्रकार होता हैं ; मीठा,नमकीन, कड़वा और खट्टा, ध्यान रहे तीखा कोई टेस्ट नहीं होता” मेरी बात सुनप्रोफ़ेसर के साथ-साथ सबका दिमाग घूम गया था, दीपक मेरे प्रश्नों और उत्तर कोसुन मुस्कुरा रहा था |

“मेरा तीसरा प्रश्न, शुरू-शुरू में जब अंग्रेज भारत में व्यापार करने आये थेतो उन्होंने ऐसी कौन सा तीर चलायी की उलटे हमें ही ग़ुलाम बना लिए और हम 200 सालतक ग़ुलाम बने रहे, मेरा भारत आज़ाद कैसे हुआ, इसका एक संक्षेप विवरण दे” मैंनेएक ठन्डे दिमाग से उनसे यह सरल प्रश्न किया |

हमारे इस दो लाइन के छोटे से प्रश्न में एक बड़ा इतिहास का संक्षेप विवरण देनाउनके बस का था नहीं उन्होंने साफ़ साफ़ मना कर दिया |

“ये कौन सा प्रश्न हैं, तुम्हे पता भी हैं केवल इतना ही पढने के लिए बच्चे कईसाल तक अनगिनत पैसे और समय दोनों लगा देते हैं और तुम मुझसे इसका संक्षेपविवरण मांग रहे हो | फिर भी, अगर मैं अभी बताना शुरू करूँ तो न जाने कई क्लासबीत जायेगा बताते बताते.. ऐसे नहीं होगा | मैंने पहले ही कहा था, प्रश्न मेरेलेवल का होना चाहिए | ऐसी बकवास क्वेश्चन करना बंद करो, बड़ा पूछने बैठे होभारत ग़ुलाम कैसे बना..? आजाद कब हुआ...? तुम एक आजाद देश में पैदा हुए हो न... बस!!” उन्होंने झल्लाते हुए मुझसे इतना बोले |

“सर जब आप प्राइमरी स्कूल में पढ़ते थे” मैंने इतना ही बोला,

“हाँ, तो..?”

“उन दिनों स्कूल में होने वाले प्रार्थना के चार लाइन गा के सुना दीजिये”मैंने जल्दबाजी में ही उनसे यह चौथा प्रश्न भी पूछ बैठा |

“अब ख़त्म करो.. केवल बकवास प्रश्न किये जा रहे हो.. अभी यहाँ किसे याद होगा कीस्कूल में प्रार्थना कौन सी होती थी.. तुम्हे याद हैं..?” अपने सर पे बचेगिने-चुने बाल को खुजलाते हुए प्रो. जैन साहब ने बोला |

“ओके सर, अब तो रात होने को हैं, लेट भी हो रहा हैं | एक आखिरी प्रश्न प्लीजसुन लीजिये ‘ये गुड मोर्निंग कब बोलते हैं..?” अब हमने उनका सम्मान करते हुएआख़िरी प्रश्न पूछा |

“सिंपल सा उत्तर हैं गुड मोर्निंग जब भी हम किसी से सुबह-सुबह मतलब दोपहर 12 बजेसे पहले मिलते हैं तब बोलते हैं” बहुत ही जल्दी में जवाब देकर वो कुर्सी सेउठाना चाह रहे थे |

“नहीं सर, ऐसे उत्तर की मुझे आपसे उम्मीद नहीं थी” मैंने उन्हें उठने से रोकाऔर बोलना जरी रखा “जहाँ तक मैं जानता हु सर आप टीचर तो साइंस और मैथ के हैं परव्याकरण पर आपकी पकड़ मजबूत हैं”

मेरे ऐसे बोलते ही उन्होंने मेरे चेहरे को देखा और कहा, “हां यार तूने सही याददिलाया, गुड मोर्निंग तो हम कभी भी बोल सकते हैं, हम जब भी किसी से पहली बारमिलते हैं वो चाहे दिन हो या रात हम कभी भी बोल सकते हैं | अब समझ में आयायानि ‘गुड मोर्निंग’ तूने ही बोला था” उन्होंने मेरे पीठ पर प्यार से एक थप्परमारते हुए बोले, और कहने लगे “बहुत अच्छा लगा तुम्हे इंटरव्यू देकर, तुममेकुछ तो बात हैं.. मज़ा आ गया” इतना कह वो कुर्सी से उठ क्लास से बहार जाने लगे |

“सर आज इसे हॉस्पिटल में बेस्ट एम्प्लोयी और 5000 का चेक जो मिला हैं” दीपकअपने शीट से उठ प्रोफ़ेसर को मेरे बाड़े में बताया |

दीपक की बातें सुन उन्होंने वापस मुरकर मुझसे हाथ मिलाये और मेरे पीठ पर हाथथपथपाते हुए बहुत बधाई भी दिये | एक बात जो उन्होंने जाते वक़्त कही, वो शायदकोई कभी इमोशन में आकर ही कहता हैं, उन्होंने बोला था “राजू तुम एक असाधारणलड़का हो, चाहे हम तुम्हारे लिए कुछ कर पाए या नहीं पर तुम्हे कोई न कोई जरूरपहचानेगा, तुम बेमिशाल हो | मैंने आज तुम्हे देखा हैं, एक अच्छी जॉब के अलावेतुम्हारे अन्दर कुछ और करने की जो भूख हैं, तुम्हे बहुत आगे ले जाएगा, तुम्हारेअन्दर बहुत काबिलियत हैं, जिनिअस राजू, यू आर द किंग, बेस्ट ऑफ़ लक”

मेरे जिंदगी का ऐसा प्रोत्साहन देने वाला वो दूसरे व्यक्ति थे, मैं कुछ समझनहीं पा रहा था बस मन ही मन चेहरे पर एक मुस्कराहट के साथ उनकी भावनाओं कोमहसूस कर रहा था और मैं प्रोफ़ेसर जैन के साथ साथ भगवान् को भी धन्यवाद बोल रहाथा |

जैसा की प्रोफ़ेसर साहब का समय हो गया था, वो किसी अन्य क्लास में चले गए | इधरमैं दीपक के पास आकर बैठ गया साथ ही साथ हम दोनों के वजह से क्लास के अन्यस्टूडेंट्स उस खरूस प्रोफ़ेसर के इंटरव्यू लेने से बच गए, सभी स्टूडेंट्स खुलके मुझे प्रोत्साहित कर धन्यवाद दे रहे थे |

आज भी मैं हमेशा गुड-मोर्निंग ही बोलता हैं, आप भी बोलिए | गुड मोर्निंग बोलनेसे एक अलग ही उर्जा मिलती हैं.. उत्साह आता हैं क्योंकि अक्सर गुड मोर्निंग हमकेवल सुबह में ही बोलते हैं जब हमारे पास भरपूर उर्जा होती हैं | तो क्यों नएक गुड मोर्निंग बोलकर उस उर्जा को देर रात तक कायम रखा जाये

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.