आज पुनीता नहीं आई थी। शायद बीमार पड़ गई होगी। उसने नोटिश किया था कि आफिस में उसकी मां आ रही थी, उसी से पता चल सकता है कि क्या बात है ? वह अजीब पेशोपेश में है के पूॅंछे कि न पॅूछे? उसे संकोच खाये जा रहा था कि उसकी मॉं पता नहीं क्या अनुमान लगाये। रामदेई ने भी अपनी तरफ से उसे कुछ नहीं बताया, पुनीता के न आने के विषय में। परन्तु उसे खबर करना चाहिये था। क्या पता उसने यह काम छोड़ दिया हो। वह कहीं से इस काम के लिये नहीं बनी लगती थी। वह हीरोइन सी लगती थी और अपने को मानती भी थी। लैट्रीन और बाथरूम की सफाई नहीं हो पा रही थी। वह खुद ये काम नहीं कर पाता है। अजीब सी घिन लगती है। ये काम उसे अपना नहीं लगता। ये काम इन्हीं लोगों के बस का है। रामदेई से पहले उसने कहा था परन्तु रामदेई ने कहा था, ‘मुझे तो फुरसत नहीं है, उस समय तो मैं आफिस की सफाई करती हॅू। हॉ, अपनी लड़की को भेज दिया करूंगी, वह सुबह.-सुबह आपका काम निपटा दिया करेगी।‘ तब से आदत बन गई है उसे देखने की। पुनीता रोज आती है, लैट्रीन की सफाई करती है और साथ में अपने आप बोनस के रूप में बाथरूम और बरामदे की भी सफाई कर जाती थी। उससे सफाई करवाने से ज्यादा उसे देखना और बातें करना ज्यादा अच्छा लगता था। वह सांवली खूबसूरत और नाजुक थी और उसमें गजब का आकर्षण था। उन्नीस-बीस वर्ष की वह लड़की किसी को भी लार टपकाने के लिए विवश कर सकती थी। मकान मालिक का परिवार यदि ऊपर से झांक न रहा होता था तो वह कुछ देर रूक कर वह उससे बतयाती भी थी। बतयाती तो कुछ कम उसकी बातों पर मुस्कराती ज्यादा थी।
इन दिनों उसका मन कहीं लग नहीं रहा था। उसे पुनीता सता रही थी। आफिस घर ओर बाजार-हाट सब निरर्थक प्रतीत हो रहे थे। रात का खाना भी वह बेमन से, यंत्रवत खाकर जल्दी ही घर आ जाता था। वह खोया-खोया सा था। अपने आप में डूबा। नींद लेने की असफल चेष्टा करता रहता। वह नींद में है या स्वप्न में है। कल्पना लोक में है या आभाषी दुनियां में है या वास्तविकता से दो चार हो रहा है, कहना मुश्किल था। वह बेखुदी में था। आकृतियां बन बिगड़ रही थी। इन बनती बिगड़ती आकृतियों और दृश्यों में अनिवार्यतः पुनीता जरूर थी।
अचानक उसकी नींद खुली या वह सपने में था ? आवाज आ रही थी। झांड़ू चलने की आवाज। कोई लैट्रीन साफ कर रहा था, पानी कौंन दे रहा था सफाई के लिए ? प्रदुम्न ही हैण्ड पम्प से पानी निकाल कर सफाई के लिए उड़ेलता था। इतनी रात में कौंन है? अंधेरा जबरदस्त था। बिजली चली गई थी। परन्तु वहॉ पर कूछ प्रकाश क्यों लग रहा था ? पुनीता इस समय क्यों सफाई कर रही है ? वह नींद के नशे में या सपने में यंत्रवत उधर ही चल देता है। अरे ! पुनीता ही है वह तेजी से झाड़ू चला रही है। गंदगी और पानी लैट्रीन के पाट पर फैला हुआ है, परन्तु वह खत्म नहीं हो पा रहा हैं। वह उसे देख लेती है और उसकी तरफ गंदगी उछाल देंती है। उसके चेहरे, मॅुह और गरदन पर गंदगी चिपट जाती है और पानी के छींटें सारे शरीर पर। वह पलटकर भागता है, और वाश-वेसिन पर जाकर अपने आप को साफ करने लगता है, परन्तु लाख प्रयत्नों के बाद भी वह अपनी गंदगी साफ नहीं कर पा रहा है। लाइट आ गई है, परन्तु पुनीता नहीं दिखाई पड़ रही है। सीसे में अपना चेहरा देखता है, कहीं कोई गंदगी नहीं चिपटी है, उसका चेहरा वैसा का वैसा ही है, उनींदा और अलसाया हुआ। परन्तु अभी जो घटित हुआ, कांप उठा वहं पसीने में भीग उठा। डर उस पर हावी हो गया। वह वापस बेडरूम पर, फिर वह न लेट सका, न सो सका और न ही लाइट बंद कर सका। वह वास्तविक-अवास्तविक के फेर में झूल रहा था।
सुबह के सात बजे हैं, पुनीता आ गई है। वह हैण्ड.पम्प से बाल्टी में पानी निकाल कर लैट्रीन के पास बाथरूम तक ले जाता है और मग से पानी निकाल कर डालता जाता है। वह सफाई कर रही है। सफाई करते समय वह अपनी चुन्नी एक तरफ सम्हाल कर रख देती है। सफाई करते उसके अंग-प्रत्यंग हिल रहे हैं। उसके वक्ष घूमते रहते हैं। वह अंधेरे और उजाले की एक अश्लील चौखट पर खड़ा है। वह उन्हें छूंता है अनजान दिखकर फिर जान कर। एक-.दो बार वह उपेक्षा करती है, परन्तु बारम्बारता पर तमक कर खड़ी हो जाती है।
‘क्या है ? क्यों छूॅ रहे हो?‘
‘ऐसे ही। वह खिसियायां।‘
‘नहीं...........। ये ठीक नहीं है। मुझे बुरा लगता है। तमीज से पानी डालो।‘ उसे उसका गुस्सा होना जायज लगता है, वह अपने आप को संयत कर लेता है। उस दिन वह फिर कोई हरकत नहीं करता है। अगले दिन फिर उसका ईमान डगमगा जाता है। वह आंॅखों के ईशारे से मना करती है। रूक जाती है, खड़ी हो जाती है, फिर काम पे लग जाती है। परन्तु प्रदुम्न कुछ ज्यादा ही खुल गया, वह फिर शुरू हो जाता है। पुनीता बिगड़ गई, बिफर गयी..............। वह सब छोड़.-छॉड़़ कर जाने लगती है। वह उसे मना लेता है, रोक लेता हैं
‘क्यों, करते हो, ये सब? आइंदा से किया तो मां से कह दॅूगी। फिर आंऊगीं नहीं।‘
‘ऐसा मत करना, मैं तुमसे प्यार करता हॅू। मुझसे रहा नहीं जायेगा।‘
‘आप तो अच्छे घर के हैं, आपको ये सब शोभा देता है? प्यार-वार क्या करोगे, तुम कुछ और ही करना चाहते हो।‘
‘यही तो प्यार का इजहार है, जानम ! मैं तुम्हारे लिए, कुछ भी करने को तैय्यार हूॅ।‘
‘मुझे पसंद नहीं है, ये सब,समझे ? मैं ऐसी-वैसी लड़की नहीं हॅू। वो कोई और होगी, जो पैसे में बिकती होगी ?‘
‘मैं कब कहता हॅू कि तुम ऐसी हो। मगर मैं क्या करूॅ, तुम इतनी सुन्दर हो कि तुमसे लिपट जाने को दिल करता है।‘ वह मुस्कराई और चलते-चलते बोली ‘जूते खाओगे ?‘
वह आती रही, मुस्कराती रही, बातें बनाती रही, काम करती रही, उसकी भी थोड़ी-बहुत छेड़छाड़ चलती रही। सफाई के बाद, वह उसे चाय-बिस्कुट, चाकलेट और छोटे-मोटे गिफ्ट देता रहा। थोड़े ना-नुकर के बाद वह स्वीकारती रही। उसे लग रहा था कि वह उससे प्रभावित हो रही है या उसके प्रेम पर यकीन कर रही है। एक दिन बातों-बातों में उसने एक ऐसा चारा फेंका जिससे कोई लड़की शायद ही फंसने से बच पाती हो।
‘मुझसे शादी करोगी?‘ उसे कोई आश्चर्य नहीं हुआ। ऐसा उससे अब्दुल और बलराम कई बार कह चुके थे। परन्तु वह उनके झांसे में कभी नहीं आयी।
‘बनिया, बक्काल मुझ मेहतर से शादी करेगा ? क्यों, चूतियॅा बनाते हो ?सिर्फ अपना मतलब निकालना चाहते हो।‘ वह झूंझला कर तमक कर बोली।
‘कसम से।‘ अपने गले का कौवा पकड़कर आश्वश्त किया।‘ मैं, प्रदुम्न गर्ग सीरियसली वादा करता हॅू।‘ अबकी बार वह मुस्करायी.............‘जन्मों के झूंठे हो......कसमें तो खाने वाले होते हैं झूंठे..............जाओ बेबकूफ मत बनाओ..........रास्ता छोड़ो............जाने दो..............देर हो रही है............और वह चली गई।
उसे लगा कोई उसके सीने पर बैठा है, सांस लेना भारी हो रहा है। डर की वजह से वह ऑख खोलकर देखना भी नहीं चाहता हैं, अब उस पर सारा वजन डाल दिया गया है और उसने प्रदुम्न के गले में अपने हाथ चिपका दिए हैं और उनका दबाव बढ़ता जा रहा है। उसकी आंखें खुली तो देखा पुनीता उस पर सवार है, उसकी काली ऑखें लाल सूर्ख हो रही थी ओैर उसकी ऑखें उस पर स्थिर हैं। भय की वजह से उसकी चीख निकली परन्तु आवाज मॅुह से बाहर नहीं आ रही थी। जितना वह उससे छुॅटने की जी तोड़ कोशिश करता उतना ही पुनीता की अंगुलियों का दबाव उसकी गरदन पर बढ़ता जाता। उसे लगा उसकी मौत सन्निकट है। पहले उसकी ऑखों के गोले बाहर निकलेंगे फिर वह निकल जायेगा। अचानक उंॅगलियों का दबाव ढीला पड़ने लगा था और धीरे.-धीरे उसकी गर्दन आजाद हो गयी। परन्तु उसने अब उसके चेहरे को अपने दोनों हाथों से जकड़ लिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रखते हुये अपने मुॅंह से उसके सम्पूर्ण चेहरे पर अपनी सत्ता स्थापित कर दी। प्रदुम्न का सारा चेहरा लहुलुहान हो गया, होंठों से खून रिस-रिस कर चारों ओर फैलने लगा। खून चेहरा, गर्दन, सीना को भिगोता हुआ उसके सारे कपड़े गीले करता जा रहा था। खून की धारें निकल रही थीं और खून रूकने का नाम नहीं ले रहा था। घबराहट में उसकी जान निकलने वाली थी। आखिरकार पसीने से तर बतर और बुरी तरह से हांफता हुआ वह अपने बिस्तर पर उठ बैठा। पुनीता नदारत थी और खून का सैलाब भी। खून की एक भी छींट नजर नहीं आ रही थी। उसने दौड़कर अपना चेहरा सीसे में देखा, उसका वजूद सही सलामत था, परन्तु उसे ऐसा लगा उसका सारा खून निचुड़ चुका हैं।
आज सुबह-सुबह ही मकान मालिक और उनका परिवार बाहर चले गये थे, अपने एक रिश्तेदार के यहॉ शादी में भाग लेने। पूरा घर खाली पड़ा था। प्रदुम्न आज बेसब्री से उसका इन्तजार कर रहा था। वह कुछ आज अतिरिक्त सुन्दर लग रही थी। उसने जींस और टाप पहन रखी थी। इस ड्रेस में उसके उभार और कटॉव स्पष्ट एवं खुलकर नजर आ रहे थे। एक निश्चित संयम को डोर से बंधे प्रदुम्न ने अपना आपा खो दिया। कामुकता में बर्बरता प्रवेश कर चुकी थी और उसने उसे रगड़ना और मसलना शुरू कर दिया। उसने लगभग प्रदुम्न को धकेलते हुए अपने आप को उससे अलग किया और बाथरूम से बाहर निकल आयी। उसके कई अंग, प्रत्यंग कल्ला उठे। अविश्वनीय और अप्रत्याशित घटना क्रम में उसके अंतःकरण को छील दिया था और उसकी निजता और अस्मिता को चोट लगी थी। दुख और अपमान से उसके ऑसू निकल पड़े।
‘आज ही मैं मॉ को तुम्हरी सारी करतूत बताऊॅंगी। अब से शर्तिया यहॉ नहीं आने वाली। मॉ तुम्हारा सारा कच्चा.चिट्ठा आफिस में बतायेगी और तुम्हें वहीं जलील करेगी और तुम्हारी शराफत बेनकाब करेगी।‘ उसकी आवाज में चीख और तेजी नहीं थी, परन्तु उसका लहजा हिकारती था। वह बाथरूम में खड़ा, हाथ जोड़कर मौंन क्षमा याचना कर रहा था।
‘अभी, परेश भइया को भेजती हॅूं । वह तुम्हारी वह धुनाई करेगा कि तुम्हें छठी का दूध याद आ जायेगा। जरा सी छेड़छाड़ पर जब उसने अब्दुल और बलराम को हास्पिटल की सैर करा दी तो, तुम कहॉ ठहरते हो? वह बिसुरते और बिफरते हुए चली गयी थी, और उसे छोड़ गई थी पश्चाताप के जंगल में विचरते हुये और सम्भावित प्रलय की आशंका से दो-चार होते हुए।
अरे! यह क्या ? पुनीता एकदम नंग धडं़ग उसके बेड पर लेटी हुयी है। उसके शरीर में एक भी चिट नहीं हैं । वह साइड से लेटी हुई, उसकी तरफ देख कर मुस्करा रही हैं । उसकी मुस्कुराहट में आकर्षण और आमंत्रण है। वह एकटक उसे देखे जा रहा है। वह उसे ऑंखो से लील रहा है। वह उसे छूना चाहता है, उसकी खूबसूरती महसूसना चाहता है, परन्तु कोई हिचक उसे स्थिर और अविचल किये है। अब उसने करवट ले ली है और सीधे हो गयी पीठ के बल । उसके सारे सामान खुले पड़े है। वह उसे उॅंगलियो के इशारे से अपनी ओर बुलाती है। वह आवेग में अपने सारे वस्त्र उतार देता है और वह भी पुनीता की प्रतिरूप बन जाता है। यौनिकता उसे आमंत्रित करती है और वह उसके उॅपर कूद पड़ता है। परन्तु ये क्या पुनीता अदृश्य हो गयी और बिस्तर पर पड़ा कराह रहा है। उसे चोंट लगी है, एक ऐसी चोट जो कहीं नजर नहीं आ रही है। वह दर्द से बिलख रहा है और बिस्मित और अंचभित है। और वह एक तरफ खड़ी खिलखिला रही थी, व्यंग और परिहास की हंसीं ।
उस दिन कोई हांदसा नहीं हुआ । उसने उस दिन भगवान को अनवरत याद किया, संम्भावित विपदा से उसे बचाने के लिए । भविष्य में इस तरह का कोई भी प्रयास न दोहराने का भीषण संकल्प किया । यही नहीं मनसा, वाचा कर्मणा तीनांं रूप से अपने को शुद्ध करने का प्रकल्प । अगले दिन पुनीता की जगह परेश सफाई करने आया तो सोचा, जरूर आज उसे हास्पिटल का मुॅंह देखना पड़ेगा । परन्तु कुछ भी ऐसा नहीं गुजरा, जिसकी आशंका से वह ग्रसित था उसे परेश सीरियस लगा, उसने उससे कोई बात नहीं की, उसने अपना काम निपटाया और चलता बना। और उसे छोड़ गया उधेड़बुन में जुंझने कि पुनीता ने कल की घटना घर में बताई कि नही ? अगर बताई तो सब कुछ इतना शान्त क्यों है ? कोई घातक प्रतिक्रिया क्यों नहीं हो रही है ? वह झूंल रहा था शंका-कुशंका, कयाश, अनुमानों के वियाबान जंगल में।
पूरा हफ्ता गुंजर गया, न वह आयी न कोई बबाल आया। वह शंकाओं के साथ रिलेक्स हो रहा था। अगले हफ्ते से पुनीता फिर काम पर आने लगी, परन्तु बेहद चौकन्नी और तेज । मिनटों में काम निपटाया और बगैर उसकी तरफ मुखातिब हुये घर से बाहर। प्रदुम्न कुछ पूंछना चाहता था, परन्तु उसने सन्नाटे की एक ऐसी दीवार खड़ी कर रखी थी कि जिसे लांघने की हिम्मत उसमें अब नहीं बची थी। उस अघटित को घटित हुए एक माह से उॅपर हो गया था, स्थिति तनावपूर्ण पर नियंत्रण में थी । दोनों सहज और सामान्य दिखने की कोशिश में थे, परन्तु मौनता प्रखर थी। दोनों एक दूसरे को तौल एवं परख रहे थे, सिर्फ पहल कौन करे, ये प्रश्न लटका पड़ा था। आखिर में पुनीता ही टूटी ‘अजीब, कंजूस बनिये से पाला पड़ा है, एक गिलास पानी की भी उम्मीद नहीं है।‘ वह भुनभुनाई, वगैर उसकी तरफ देखे, फिकरा कसा।‘ वह कमरें में दौड़ा और कुछ खानें को और पानी लेकर हाजिर हो गया। प्रसन्नता प्रदुम्न के चहरें पर टपक रही थी । दोनों ने एक-दूसरे की तरफ देखा और मुस्करा पड़े और फिर हंसने लगे और देर तक हंसतें ही रहें। आगे के दिन पूर्ववत आकर्षक हो गये थें, परन्तु वे दिन स्वादहीन, रंगहीन और स्पर्शहीन थे।
एक लड़की रो रही थी उसकी रूलाई सस्वर नहीं थी पर एक चीत्कार उसे कहीं अपने भीतर सुनाई पड़ रही थी। वह पुनीता थी, उसकी ऑखों से आंसू टपक-टपक कर बह रहे थे। वह तीन सीटों वाले सोफे पर बैठी सिसक रही थी। वह बिस्तर पर उठ बैठा, उसकी नजरें उसके आंसुओं पर टिक गयी, उसे लगा वह भावुक हो रहा है और खुद रोने की स्थिति पर पहुॅच चुका था। अरे ! .......अरे !.............पुनीता की ऑंखों से आंसू की जगह खून बहने लगा। वह खून के आंसू रो रही है। खून ऑंखों से निकलकर गालों से होता हुआ, सारे शरीर को भीगोता हुआ, सोफे को पार करता हुआ फर्श पर गिर रहा है। उससे सहन नहीं हो पा रहा है वह बेड से उठकर सोफे पर पुनीता के पास आ जाता है। उसने उसे बॉहों में भरकर उसके ऑसू पोंछने लगता है। लगता है खून के ऑसू निकलना बंद हो रहे हैं और वह सूखने लगते हैं। यकायक वह अपने को उसके बंधन से आजाद करती है और तड़फ उठती है। ‘छोड़ो, तुम सब मर्द एक जैसे हो। तुम लोग कोई रिश्ता कोई बंधन नहीं स्वीकारते हो। तुम्हारे लिए औरत सिर्फ मादा है।..............परेश भाई भी ........तुम जैसा ही निकला.........? उसके ऑसू सूख चुके थे और उसकी ऑखों में प्रतिहिंसा चमक रही थी। उसने उसे धक्का दिया और तेजी से निकल गई। वह वहीं गिर पड़ा था जहॉ कभी खून के ऑसू पड़े थे।
उसे अकेले से डर लगने लगा है। नींद में जाने से वह डरता है। अकेले में उसका आभास और नींद में उसके ही सपने। कल्पना, परिकल्पना स्वप्न, दुःःस्वप्न आभाषी दुनियां और वास्तविक दुनियां सभी में पुनीता समाई है।
अचानक उसे लगा, जैसे सर में दर्द हो रहा है...............एक तीक्ष्ण दर्द........जो उसके सर को फोड़ कर रख देगा। ऊऽऽ..........उबकाई। उसमें ज्वालामुखी फट पड़ा, वह उठकर बैठ गया। बाहर बरामदे में ईजी-चेयर हिल रही थी। शायद कोई उसमें बैठा हैं । वह ज्वालामुखी शान्त करने के लिए बाहर आया। हॉ, ईजी चेयर इसलिए हिल रही थी कि उसमें पुनीता बैठी थी, एक गम्भीर दार्शनिक मुद्रा में। आसमानी रंग के सलवार सूट में वह चिंतन मनन में लीन थी, उसने चुन्नी भी ले रखी थी, परम्परागत् तरीके से। वह स्तब्ध, निर्विकार उसे निहारता रह जाता है। वह आलोक, अवसाद की घनी अनुभूति से उभरता हुआ कुछ देख रहा है, जिसमें वह नहीं है, पुनीता है और है............
ठाकुर रंजीत सिंह के स्कूल का परिसर, में उसकी जीप खड़ी है, उसमें उनका ड्राइवर सज्जन सिंह बैठा चुनही खा रहा है। भीतर ठाकुर साहब पुनीता, अब्दुल और बलराम को काम समझा रहे हैं। स्कूल के कमरों की सफाई बलराम करेगा, मेजें टेबुल ,ब्लैकबोर्ड आदि की डस्टिंग अब्दुल करेगा तथा प्रिंसिपल का कमरा और उनका मैंनेजर का कमरा पुनीता साफ करेगी। प्रारम्भ ठाकुर साहब के कमरे से, पुनीता काम शुरू कर देती है। कमरे कें बाहर ठाकुर साहब, अब्दुल एवं बलराम आपस में कुछ फुसफुसाने लगते हैं। वह ध्यान नहीं देती है, वह सोचती है, जल्दी काम निपटायें, दिहाड़ी लें और घर खिसकें।
उसे ठाकुर साहब की लैट्रीन, बाथरूम और कमरा कुछ भी गंदा नहीं लगता है, फिर भी सफाई हो रही है। बड़े आदमी हैं भाई? बड़े आदमियों की बड़ी-बडी बातें। लेट्रीन-बाथरूम की सफाई के बाद जैसे ही वह कमरे में आती है उसे ठाकुर साहब की ललचाई कामुक और गिद्ध दृष्टि का शिकार होना पड़ता है। वह उपेक्षा करती है और अपने काम में ध्यान लगाती है कि ठाकुर साहब ने उसे चाप लिया और चुम्मनोंं की बरसात कर दी। वह फिसली और झटक कर चीखती-चिल्लती बाहर भागी। कमरे से बाहर दो चीलें खड़ी थीं अब्दुल और बलराम। उन्होने कबूतरी को दबोचा भीतर गिद्ध के हवाले किया। गिद्ध और चीलों ने कबूतरी को बेबस किया। उसके हांथ पैर बांधे गये मॅुह में कपड़ा ठूंसा गया और ठाकुर साहब ने कामुकता-यौनिकता का बर्बरतापूर्वक प्रर्दशन करते हुये अपनी यौनतृष्णा संतुष्टि की। उसके बाद बलराम ने अपना बदला लिया उसका यौन मर्दन करते हुये कि हमसे शादी से इन्कार करती थी ‘कहती है कि कलुआ खुत्तड़ से मैं भला शादी करूगी? मैं तो उस पर थूकूंगी भी नहीं। ले मैं शादी कर रहा हॅू बिना फेरों और शहनाई के। अब तुम पर कोई नहीं थूकेगा।‘इसके बाद बारी अब्दुल की लगती है, उसने यह कहते मर्दन किया कि ‘जरा सी छेड़छाड़ पर उसे हास्पिटल भर्ती होना पड़ा था। अब कौंन से हास्पिटल तू जायेगी? तीनों तृप्त हो चुके होते हैं। पुनीता के बंधन खोल दिये जाते है और उसे रेस्ट करने को छोंड़ दिया जाता है। वह पस्त और निढाल पड़ी है उसमें मरने की भी जान नहीं बची है। खून रिस रहा है। र्निवस्त्रता को ढकती ही है कि तभी सज्जन सिंह दाखिल होता है,‘ठाकुर साहब मेरा हिस्सा।‘ शिकार की जूठन पर तो सियार का हक होता ही है। ठाकुर साहब को कोई ऐतराज नहीं है, निपटो। बाज, कबूतरी पर दबे पांव बढ़ता है। खूली कबूतरी, बाज बन जाती हैं। असीमित ताकत पैदा होती है और सज्जन सिंह धड़ाम दूर जा गिरा और वह चीखती चिल्लाती बाहर को भागी।‘ अभी पुलिस के पास जाकर शिकायत करूंगी। सबको फांसी लगवांऊगीं। बाहर पहरेदार अब्दुल और बलराम ने फिर पकड़ा, तब तक ठाकुर साहब और सज्जन सिंह सबक सिखाने उसकी तरफ लपके। उसने एक जबरदस्त झटका दिया और अब्दुल से कलाई छुटाकर भांगी। चारों दरिंदे उसे पकड़ने के लिए, उसके पीछे भागे। वह जीना चढ़कर छत पर चढ़ी। ऊॅपर की छत खुली हुई थी, बाउन्ड्रीवाल नहीं थी। वह बेतहाशा भागती जा रही थी और वह छत पार कर गई गड़ाम से नीचे गिरी। नीचे उसका शरीर अन्तिम सांसें ले रहा था और ऊॅपर दरिंन्दे अट्टहास कर रहे थे। उसकी आखिरी सांसें भी बंद की गई। उसे ठिकाने लगाने का कार्यक्रम बना। चारों ने उसे जीप में लांदा और पांच कि0मी0 दूर एक नाले के सुपुर्द किया फिर सबने किसी को न बताने की कसम ली। एक स्वर में क्या कहा जाना है, यह तय किया और सभी अपने-अपने घर को रूखसत हुये। सज्जन सिंह को अन्त तक अफसोस रहा कि उसे उसका हिस्सा नहीं मिल पाया। ‘ उसकी किस्मत ही खराब है, उसने अपने आप को कोंसा।‘
वह चीखना चाहता था और वह जोर-जोर चीखा चिल्लाया भी परन्तु उसके गले से आवाज नहीं निकल पा रही थी। वह जड़वत पाषाण बना मूक बधिर बना था। उसकी सांसे रूक गई थी। और वह निश्तेज होकर ईजी चेयर पर गिर पड़ा। धीरे-धीरे सब शान्त हो गया और वह सुबह तक वैसे ही बेसुध पड़ा रहा था।
सुबह उसकी नींद, घंटी की कर्कश आवाज और गेट के भड़भड़ाने की अनवरत आवाज से टूटी। उसने देखा वह ईजी चेयर पर वैसे ही पसरा था जैसा कि वह रात अंधेरी में था। पुनीता आ चुकी थी और कई दिनों से न आने की उसने कोई सफाई नहीं दी। प्रदुम्न पर असन्तोष की काली घनी गहरी छाया व्याप्त थी। आखिर वह फूट पड़ा। ‘इतने दिन कहॉं रही?‘ उसने कोई जबाब नहीं दिया, सिर्फ कनखियों से उसे देखा। उसे लगा कि हल्के से व्यंगात्मक ढंग से मुस्कुराई थी। यह उसका भ्रम रहा हो। ‘बोलती क्यों नहीं?‘ वह झुंझलाया।
‘क्या है ? क्यों पीछे पड़े हो ? काम से गई थी। मुझसे ज्यादा तकलीफ है तो कोई और रख लो। उसने ठिठोली की। वह तड़फा और उसका रास्ता रोक कर खड़ा हो गया।‘
‘क्या बात है? आखिर बताती क्यों नहीं? कहॉं गई थी क्या काम था?‘ उसका गुस्सा काफूर हो गया था और रोआंसापन झलक रहा था। पुनीता ने उसे बताया कि उसे ठाकुर रंजीत सिंह के स्कूल में नौकरी मिल गई है। पॉंच हजार रूपया महीने पर। यही साफ सफाई का काम है। अगले महीने की पहली तारीख से जाना है, फिर वह उसके यहॉं नहीं आ पायेगी। मॉं कह रही थी कि एक घर तो है ही परेश सम्हाल लिया करेगा।
‘नहीं तुम यह नौकरी नहीं करोगी।‘ यह ठीक नहीं है। वह लगभग चीखने वाले अंदाज में बोला। पुनीता आश्चर्य से भर उठी।
‘ओह, तो तुम्हारे पचास रूपल्ली के पीछे मैं पॉंच हजार छोड़ दूॅं। पागल हो क्या? हम नीच जाति की उन्नति से जलते हो, तुम सब ऊॅंची जाति वाले।‘ वह सकपकाया और इल्जामों से वह घायल हुआ।
‘मेरा यह मतलब नहीं था‘। तुम्हारी जगह यह नौकरी परेश कर सकता है, उसके लिये यह ठीक रहेगी।
‘परेश भइया नहीं करेगें। वह बी0ए0 में पढ़ रहे है और उन्हें इस सफाई के काम से एलर्जी है। उनके कुछ उॅंचे ख्वाब है, जो इस नौकरी से पूरे नहीं होगें।‘
‘ठाकुर साहब अच्छे आदमी नहीं है, वहॉं तुम सुरक्षित नहीं रहोगी।‘
‘ओह ओ! बड़ी जानकारी है आपको इस जगह की। जुम्मा-जुम्मा चार दिन आये हुए नहीं भये है और सबके विषय में जानते हो? उसने उॅपहास उडाया।
‘नहीं ऐसी बात नहीं है।‘ उसने रात में घटित स्वप्न से उसे अवगत कराया।
‘ओह......ओह......स्वप्नों में जीते हो।‘ सपने कभी सच नहीं होते।
‘नहीं यह बात नहीं है। मैं फिर समझा रहा हॅू, उस जगह तुम्हारा काम करना ठीक नहीं है।‘
‘मैं समझ रही हॅॅू।‘ आप की नियत में ही खोट है। स्कूल में नौकरी करने से मैं आपके पास आ नहीं पाउॅंगी और आप मुझे फॅंसाने की चाल चल रहे हो वह नष्ट हो जायेगी।‘ वह बुरी तरह तिलमिला गया था और उसका मुॅंह तॉकता रह गया। वह भी समझ गई कि कुछ गलत बोल गई और उसे गहरी चोट लगी है। वह सम्हली ........कुछ पल रूकी और बोली तुमसे मिलने कभी-कभी आती रहॅूगी। जब स्कूल की छुट्टी होगी तब तुम्हारा काम करने मैं ही आऊॅंगी।‘ वह आश्वस्त न हो सका पता नहीं उसे क्यों लगता था कि वह जगह उसके लिये असुरक्षित है।
‘रंजीत सिंह बड़े जालिम आदमी है उनके बफादार नीचे और ऊॅचे तबके के काफी लोग है। जो मैंनें देंखा है, कहीं वह सच न हो जाये‘
‘उनकी क्या मजाल? मैं क्या छुई मुई हॅू। मेरी इव्च्छा के विरूद्ध को मुझे छॅू नहीं सकता मेरा साथ कुछ ऐसा वैसा करने की कोशिश भी की तो उनका साम्राज्य ढहा दॅूंगीं।....... मैं ऑग हॅू ......ऑंग हॅू। मुझसे जो खेलने की कोशिश की वह जल जायेगा।‘ यह कहते हुये उसका चेहरा तमतमा गया और काम करते हाथ रूक गये वह कुछ देर बाद ही प्रकृस्तिथ हो पाई थी वह उसके रोद्र रूप को देखता ही रह गया था। वह मायूस था, निराश था, वह सोच नहीं पा रहा था कि कैसे उसे स्कूल ज्वाइन करने से विरत कर सके।.........फिर उसने सोचा जरूरी नहीं है कि उसने जैसा सोचा है, देखा है महसूस किया है वैसा घटित ही हो। उसका मन सशंकित था, एक भावी आशंका से वह दुविधा ग्रस्त था।
परेश आने लगा था ओर बेगार भुगत कर चला जाता था। वह अनियमित था। कभी-कभार रामदेई आ जाती थी। परन्तु पुनीता फिर कभी नहीं आयी। उसका उससे किया वादा नाकाफी था। जब से पुनीता गई है, नींद जरूर आ जाती है परन्तु नींद जैसा कुछ भी नहीं होता। वह निद्रां-अनिद्रा स्वप्न-दुःस्वप्न और दिवास्वप्न के चक्रव्यूह में उलझ कर रह गया है। उसने अपने आप को समेटा सहेजा ओर अनिर्णय की स्थिति से बाहर आया। उसने उस अजीब, अदभुत और विचित्र मनस्थिति से उबरने में अपने आप को झोंक दिया।
आफिस में आज गम का माहौल था। चर्चा थी कि रामदेई का बेटा परेश पागल हो गया है। उसे आगरा पागल खाने में भर्ती करा दिया गया है। हरदम बहन......बहन..........पुनी.............ता.......चिल्लाता रहता था । कभी एकदम से हिंसक हो उठता या फिर एकदम मृतप्राय शान्त। अपने कपड़े फाड़-.फाड़ कर फेंक रहा था या फिर एकदम से ढेर सारे कपड़े पहन ऊपर से कम्बल रजाई ओढ़ लेता था। ये कार्यक्रम उसका कई दिनों से चल रहा था, अनवरत, बिना किसी अवरोध की परवाह किये बिना। बाबूराम एवं रामदेई दुःख और सुख से पार हो गये लगते थे, उनके ऑसू सब सूख गये थे और वे दोनों लुंज-पुंज से थे, एकदम अपाहिज से हो गये थे। बेटी का पता नही, जिंदा या मुर्दा और बेटा पागल, ठीक होगा या नहीं?
पुनीता के विषय में कोई कह रहा था कि उसकी हत्या हो गई है। यह भी शक व्यक्त किया जा रहा है कि उसने आत्म-हत्या की हो। गायब हुये दो.-तीन दिन हो गये थे। उसके माता पिता ने गायब होने के खबर उसी दिन थाने में लिखा दी थी। पुलिस ने गम्भीरता से नहीं लिया था, जैसा कि वह अक्सर निम्न वर्ग के साथ करती है। एफ0आई0आर0 में सम्भावित शक उन्होने एक स्थानीय स्कूल के प्रबन्धक रंजीत सिंह पर व्यक्त किया था, जहॉ वह उस दिन गई थी सफाई का काम करने। हत्या, आत्म.हत्या कुछ भी हो लाश भी तो मिलनी चाहिए।
कुछ अटकलबाजी में कह रहे थे कि वह अपने अवैध सम्बन्धोंंं के कारण भाग गयी होगी। कहीं से ये खबर आ रही थी कि उससे प्यार करने वाले तो यहीं पर ही हैं। इस सम्बन्ध में स्थानीय दो नवयुवक अब्दुल एवं बलराम का नाम लिया जा रहा था, जो शायद उसके प्रेमी थे। ये दोनों उसके भाई परेश के दोस्त भी थे।

ठाकुर रंजीत सिंह से पूॅछ-तॉछ जारी है। उन्होने बताया कि उस दिन दो-तीन घंटे सिर्फ सफाई का काम हुआ था और उन्होने तीनों को उस दिन का भुगतान करके भेज दिया था। उसके बाद वे तीनों कहॉ गये उन्हें कुछ नहीं ज्ञात है। उनके बयान की ताकीद उनके ड्राइवर सज्जन सिंह ने भी की, पुलिस के सामने। ठाकुर साहब प्रभावशली व्यक्ति हैं। स्थानीय विधायक का उन पर वरदहस्त है। पुलिस को ठोस प्रमाण की तलाश है। अब्दुल और बलराम को गिरफ्तार किया जा चुका है और उनसे गहन पॅूछ-तॉछ की जा रही हैं। रामदेई बाबूराम एवं परेश से जानकारियॉ एकत्र की जा रही हैं। लड़की की मॉ ने बताया कि उस दिन अब्दुल स्कूल का चपरासी और बलराम आये थे और कहा था कि स्कूल में छुट्टी के दिन सफाई का काम है इसलिये पुनीता की जरूरत है। पिता बाबूराम और बेटा परेश थे नहीं, इसलिए उन दोंनों के बहुत जोर देने पर उन्होंने पुनीता को, उनके आश्वासन पर स्कूल काम करने भेज दिया था।
तीन दिन बाद पुलिस को पुनीता की लाश मिली क्षत-विक्षत करीब पांच कि0मी0 दूर नाले के पास झाड़ियों में उलझी हुयी। लाश की शिनाख्त हो चुकी थी, वह आसमानी रंग का सलवार-सूट पहने हुये थी, जो जरजर हो चुका था और बदरंग भी। ठाकुर रंजीत सिंह और ड्राइवर सज्जन िंसह को गिरफ्तार कर लिया गया। पोस्ट मार्टम में सामुहिक बलात्कार की पुष्टि हुयी थी और उसे मार डाला गया था कि राज जाहिर न हो जाये। परन्तु ड्राइवर सज्जन सिंह वायदा-माफ गवाह बन गया था। सामुहिक बलात्कार एवं हत्या कांड का भंडाफोड़ हो गया था।
पुनीता उसी तरह ईजी चेयर पर झूल रही थी और वह पाषाण की तरह स्थिर। वह उठी उसने प्रदुम्न के गले में अपने बांहों का हार डाला उसके कंधे को पकड़कर एक सौ अस्सी डिग्री का कोण बनाते हुए उसे ईजी चेयर में बिठाया और चेयर के हत्थे पकड़कर उस पर झुकी और उसकी ऑंखों में अपनी ऑखें डाल दीं। पुनीता की ऑखों से एक प्रश्न उॅभरा और उसकी ऑखों से निकल कर प्रदुम्न की ऑखों में समा गया। उसे लगा पुनीता ने उसे अपराध बोध से बरी कर दिया है। वह गमगीन था, पुनीता अब शायद नहीं लौटेगी, अदेह भी नहीं।

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.