सूरज नया मुझको दिखाओ

कल्पना रामानी की सिंधी ग़ज़लों का अनुवाद


प्यारी माँ, सूरज नया मुझको दिखाओ

गर्भ में ही मारकर, मत यों मिटाओ

मत करो तुम अपना ही अपमान जननी

जन्म देकर प्यार से मुझको सजाओ

गम न करना, बल तुम्हारा मैं बनूँगी

भेजकर उस पार, जी लोगी, बताओ?

भूल अपना फ़र्ज़, हक़ छीनो न मेरा

धारिणी, धर पूर्ण दिन मुझको बचाओ

ढोंगी नर चाहें अगर मेरा विसर्जन

ढाल उनकी पर न तुम बन माँ! गलाओ

मैं तुम्हारे ही अँगन की बेल हूँ माँ

बुर्ज छू लूँ इस तरह, सक्षम बनाओ

रूठे जग, परवाह क्यों, खुद शक्ति हो तुम

‘कल्पना’ जग-आगे स्वीकृत कर दिखाओ

hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.