जनपद में आज हड़कम्प मचा था । जनपद के दो प्रमुख अपराधी गुटों के बीच आज जमकर गोलियॉं चली थीं । तीन लाशें लाई गई तो एक लाश उस सिपाही की भी थी जिसकी डयूटी अंगरक्षक के रूप में एक (अपराधी) गुट के प्रमुख के साथ लगी थी, क्योंकि वह अब विधायक बन चुका था ।
सूचना मिलते ही सिपाही की बिलखती पत्नी कप्तान साहब के सामने आ खड़ी हुई ।
‘‘साहब,..................अपराधी की सुरक्षा में मेरे पति को क्यों लगाया गया ?’’
सदैव गुरर्राने वाले कप्तान साहब निरूत्तर बगलें झांकने लगे ।

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.