माधंगी जयरामन तमिल कहानी का हिंदी अनुवाद


‘‘हम गोद ले’’ जैसे ही मैने कहा मेरे पति ने मुझे घूर कर देखा। ‘‘क्यों हमारी दो बेटियों की शरारत कम लगी क्या? तुम्हें एक बेटे की इच्छा है तुमने पहले नहीं कहा?’’ व्यंग्य से बोले। मेरी आँखों में जो इन्होंने खामोषी देखी वो मेरे पक्के इरादे को समझ गये। मजाक छोड़ उन्हांने कहा ‘‘सॉरी! क्या कहना चाहती हो साफ बोलो ना?’’ मेरे उद्देष्य व इरादे को देख वे गौरवांवित हुए। ‘‘तुम्हारे फैसले से मैं गर्व का अनुभव कर रहा हूँ। हम दोनो अपने दोनो बच्चों को तरीके से समझा देंगे। बाद में जो करना है उसे कायदे और कानून से करेगें। ‘तुम कितनी साहसी हो गई हो! मेरी प्रषंसा कर वे चले गए।
शादी होने के बाद लॉस एजिंल्स में कदम रखते ही मुझे बहुत डर लग रहा था। मेरे हाथ में हनुमान जी की पूंछ की तरह एक लम्बी लिस्ट थी। मेरा डर मुझे याद आते ही मैरी का साहस भी मुझे याद आ गया। स्कर्ट, टाप, स्कार्फ, लिपस्टिक, टक-टक कर चलने वाली उसकी चाल, हमेषा चेहरे पर मुस्कान लिए किसी की भी समस्या मालुम होते ही मदद करने वाला उसका मन ... यही सब तो मैरी की पहचान है। मैं खिड़की के पास मैं बैठी तो मुझे सामने मैरी दिखी। सबसे पहले मैने उसे कॉफी के मग लेकर बैठे देखा।
वह खिड़की ही मेरे मनोरजंन का एक मात्र साधन थी। मेरी इस खिड़की को मेरे पति बोधि वृक्ष कह मुझे चिढ़ाते। ‘‘आज क्या मालुम किया। वह औरत अकेली ही है क्या? उसका नाम क्या है? उसकी उम्र क्या है?’’ ऐसी बातें ही हमारे डाइनिंग टेबल की मुख्य बातें होने लगीं। मैरी एक अमेरिकन है। उसका पति नहीं है। उसकी मेरी उम्र की एक लड़की है जो न्यूयार्क में रहती है। उसके साथ उसका ज्यादा लगाव नहीं है।
हमारे घर पहली बार जब मैरी आई वह अनुभव बहुत ही कॉमेडियन था। मैं नई-नई आई, अकेली किसी तरह खाना बना रही थी। कुकर का प्रेषर अधिक होने से बहुत ज्यादा आवाज आ रही थी व उसमें से भाप निकल कर चारों तरह फैल रहीं थी। तब अचानक सायरन बजने लगा। क्या कंरू पता नहीं चला। डर के मारे मैं घबरा कर कांपती हुई एक तरफ खड़ी हो गई। इतने में कॉल बैल की आवाज आई वहां मैरी खडी थी। उसने घर के अन्दर झांक कर देखा और मेरे हाथों को पकड़कर बाहर निकाला। बाहर अड़ोसी-पड़ोसी सब इकट्ठे हो गए।
‘‘और कोई घर के अन्दर है क्या?’’ उसने पूछा। नहीं ’’कह मैने सिर हिलाया। फिर मैंने बडे नादानी से पूछा ‘‘ये सायरन की आवाज कैसी?’’ ‘‘यह आपके घर का सुरक्षा अलार्म है।’’ कह उसे कैसे बन्द करते है मुझे बताया। उस दिन से मेरी नादानी, बेवकूफी, संषय, का समाधान का जवाब मैरी, ही मुझे देती थी।
मैरी की उम्र मेरी अम्मा जितनी है, सुन कर मुझे बड़ा आष्चर्य हुआ था। उसमें कितनी फुर्ती थी। सुबह माण्टेसेरी स्कूल में टीचर, शाम को सोषल सर्विस। मैंने एम.एम. साईकॉलाजी में की है उसे पता लगते ही मुझे कांउसलिंग करने के लिये तैयार किया व मुझे अपने पैंरो पर खडे होने के लिए साहस मैरी ने ही दी। मैरी, तुम्हें मैं गोद लेने वाली हूॅ वह सही है इसकी हिम्मत क्या तुम मुझे दोगी मैरी?
अपने ख्यालों की दुनियां से बाहर आ बच्चे दिव्या व काव्या की पसंद का लेचानियां और लाल केस्पिकम का सूप बनाया। यें विदेषीं व्यंजन बनाना मुझे मैरी ने ही सिखाया। मेरा प्रसव अमेरिका में ही हुआ। तब मैरी ने र्स्फि मेरी सेवा ही नहीं की, बल्कि मुझे हिम्मत भी बंधाती रही।
मेरे दुख के समय जब मेरे सास-ससुर गुजरे या जब मेरे मम्मी-पापा गुजरे थ,े तब उसने हीं मुझे तसल्ली व सांत्वना दी, और मेरे परिवार का ख्याल भी रखा।
मैरी मेरा तुम्हें गोद लेना ठीक है ना? तुम्हारी राय मेरे लिये बहुत जरूरी है। जवाब दोगी ना? मौन पसरा हुआ था।
मैरी मुझे जवाब देने की हालत में आज नहीं है। पिछले एक साल से ही उसके व्यवहार में कुछ बदलाव आये थे। अपने आप बात करना, हसंना आदि। ऐसा एक दिन भी नहीं गया होगा, जब उसने प्रभु से यह प्रार्थना न की हो कि मुझे वृद्धाश्रम जाने की नौबत कभी न आये। अकेलापन व बुढ़ापे ने उसे व्याकुल कर दिया था। मैंने ये बात समझी और मैने कई बार काउंसलिंग की। डाक्टरों के पास भी ले गई। दिन ब दिन उसकी हालत खराब होती गई। अब और रूक नहीं सकते सोच कर पहली बार मैरी की बेटी सांत्रा को मैंने फोन किया। ‘अगले माह आकर देखूंगी’ं उसने कहा तो मैंने उसे उनकी हालत की नजाकत बताई। दो दिन में आने की बात मानी, परन्तु बेमन से।
सांत्रा आ रहीं है जब मैरी को मैंने बताया तो वह बहुत खुष हुई। वहीं पुरानी हिम्मत व उत्साह उसके चेहरे पर दिखा। इस काम को मैंने पहले क्यों नहीं किया सोच मैं अपने आप को दोषी मानने लगी।
सांत्रा के अन्दर आते ही उसे ‘हलो’ कह कर मैं धीरे से बाहर आकर खड़ी हो गई। माँ बेटी के बीच बात करने के लिए तो बहुत से विषय होगे। थोड़ी देर में ही वह कमरे से बाहर आ गई ‘‘मुझे मम्मी को एक अच्छे वृद्धाश्रम में छोड़ना होगा। उसके बाद ही मैं रवाना होऊँगी।’’ कह कर वह बाहर चली गई।
मैरी के कमरे के अन्दर घुसने में ही मुझे डर लगा। मैरी का चेहरा ऐसा लगा जैसे किसी भूत-प्रेत को प्रत्यक्ष देख लिया हो। भ्रमित होकर बैठी थी। मैंने तुरन्त एम्बुलेंस को बुलाकर अस्पताल में उन्हें भर्ती करवाया। सांत्रा से मैरी के डिस्चार्ज होकर आने तक यहीं ठहरने के लिए मैंने उसे बड़े मुष्किल से उसे मनाया। मैरी के शरीर में कोई कमी न थी। उसका मन नही प्रभावित हुआ था। प्यार, सांत्वना ही उसकी दवाई है डाक्टरों के कहने के कारण मैंने रोज एक घण्टा उनसे बातें करना अपनी आदत बना ली। परन्तु मैरी को कुछ भी समझ आया ऐसा मुझे नहीं लगा।
मैरी के तबियत खराब होने के कारण मैं बच्चों को समय नहीं दे पाई। इस कारण मैरी को गोद लेने वाली इच्छा को मैं बच्चों को बता नहीं पाई।
रात डिनर के समय मैने बात करनी शुरू की। ‘‘गोद लेने का मतलब क्या है तुम्हें पता है?’’ दिव्या ने मालुम है बताने के लिए सिर हिलाया तो छोटी काव्या ‘आई नो आई नो’ कहकर चिल्लाई। आगे कहने लगी ‘‘मेरे दोस्त माईकल की मम्मी ने उसके पापा को उसके एक दोस्त से नहीं है कहकर उन्होने उसे खरीद लिया’’ बोली।
मैंने व मेरे पति ने हँसते हुए बच्चों को हमारी इच्छा के बारे में आराम से बताया। ‘‘वाऊ, सचमुच में! वेरी हैप्पी,’’ दोनों बोले। ‘‘अम्मा के स्टडी रूम को बेडरूम में बदल देंगे। मैं आपकी मदद करूंगी दिव्या बोली। बड़ी उत्सुकता से काव्या बोली ‘‘मैं वेलकम कार्ड बनाऊँगी।’’ उनके उत्साह ने मेरा विष्वास बढ़ाया। मेरे पति ने कानून के विषय पर सामग्री इकट्ठ्ी की।
दूसरे दिन सुबह मैरी को देखने गई। उसमें कोई भी बदलाव नहीं था। मैरी के हाथों को पकड़कर मेरी गोद लेने की इच्छा, बच्चों व पति का उत्साह सब कुछ मैंने मैरी को बताया। उन्हें क्या समझ में आया पता नहीं उसने मेरे हाथों को जोर से पकड़ लिया। उसकी आँखो में जीवन की चमक आते ही मैंने महसूस किया। नर्स के साथ अन्दर घुसे डाक्टर आष्चर्य चकित रह गए।
तभी वहाँ आयी सांत्रा से मैं बोली ‘‘तुम से मेरी एक विनती है क्या उसे पूरा करोगी?’’ प्रष्न भरी आँखों से वह मुझे देखने लगी।
‘‘तुम्हारी मम्मी को मुझे गोद दे दोगी? मैं उनकी देखभाल अपनी मम्मी जैसे करूंगी। मुझे किसी तरह की कोई रूपयों की जरूरत नहीं। वेष कीमती अपनी मम्मी को क्या मुझे सौंप दोगी?’’ आँसुओं के साथ मैंने उससे विनती की।
डाक्टर व नर्स आष्चर्य चकित हो खड़े रहे। सांत्रा के जवाब देने के पहले ही मैरी की आवाज मेरे कानों में शहद जैसे घुली।
‘‘बेटी! मैं तुम्हारे साथ तुम्हारी माँ बन कर आने को तैयार हूँ।

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.