सच्चे चेहरे झूंटे चेहरे

      ग़ज़ल

सच्चे   चेहरे    झूंटे   चेहरे

देखे    कैसे    कैसे   चेहरे ।


        आँखों से कुछ ओझल चेहरे

         आँखों में  कुछ  ठहरे  चेहरे ।


भूखे  प्यासे  सहमे  सिकुड़े

देखे  रोज़   बिलखते  चेहरे ।


          जीना  मुश्किल   कर  देेते  हैं

          फ़ित्ना   जैसे   चुभते   चेहरे ।


दौलत ,शौहरत ,ग़ैरत,तोहमत

कितने   रंग   बदलते   चेहरे ।


          कितने   दर्द   छुपा   लेते   हैं

          फूलों   जैसे    हँसते   चेहरे   ।


इश्क़   अगर   हो  जाए ' मंथन '

लगते   हैं   रब    जैसे   चेहरे ।


                ( ग़ज़लकार- राजेश मंथन )

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.