मुनिया रोते हुए दौड़कर माँ के गले लग गई, अम्मा अब मैं स्कूल नही जाऊंगी, ..अरे क्या हो गया मेरी लाडो को...कुछ नही अम्मा अब स्कूल नही जाऊँगी बस, रोते हुए दृढ़ता से बोली। अच्छा ठीक है ,चुप हो जा, ला दे बस्ता मुझे, ऐसे रोते नही बिटिया रानी, क्या हो गया आज स्कूल में ,अपनी अम्मा से नही बताएगी। ना अम्मा एक बार कह दिया ना, तो ना और फिर रोने लगी, अरे बिटिया चुप हो जा, देख अब तू समझदार हो गई है, सातवीं कक्षा में पहुँच गई है ,ऐसे रोते है क्या बच्चो जैसे।

चल अच्छा बता बात क्या हुई । अम्मा.....अम्मा....वो...वो...,

हाँ -हाँ बोल बिटिया .. क्या हुआ काहे रोये जा रही है। अम्मा वो गुरु जी हैं ना......चश्मे वाले, अच्छा वो तो वर्मा जी, अरे क्या हुआ उनको, अम्मा आज ना प्रधान अपने गुंडों के साथ गुरु जी को बहुत मारा, खूब गंदी -गंदी गालियां दी, और कह रहा था दुबारा मेरे खिलाफ मुंह खोला तो फिर मारेंगें...., स्कूल में घुस के मारेंगे, और हम सब बच्चो से भी कहा -जो कुछ मिले मिड- डे- मील में वही खाना पड़ेगा , किसी ने आवाज निकाला तो जान से मार दूंगा और स्कूल में आग लगा दूंगा, और अम्मा उसने बंदूक भी तान दी थी बच्चो के सामने, अम्मा हमको बहुत डर लग रहा है मैं स्कूल नही जाऊंगी अब, तू सही कह रही है बिटिया, वो प्रधान बहुत ही घटिया आदमी है , तू डर मत । हम तुमको दूसरे स्कूल में पढ़ाएंगे, उ नीच प्रधान को उसकी करनी का फल जरूर मिलेगा।।।

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.