धारावाहिक कहानी 


(SOULMATES ??? ...  इस कहानी के टाइटल मे एक प्रश्न हैं ... और उत्तर कहानी में... इस कहानी को पठण करने वाले हर किसी का अपना खुद का अलग उत्तर होगा ... तो पध्हिये कहानी)........

 

पात्र परिचय...

रिया , संकेत, अनुकल्प, सिम्मि, अदिति, अभी ...

 

Chapter: 01

 

रिया अपने जिम कि औफिस में बैठी अपना फेस्बुक एकाउनट चेक कर रही थी... अचानक उसकी नज़र अपने मेसेज बौक्स मै आये एक मेसेज पर जाती है.. किसी संकेत का मेसेज था... वो संकेत का प्रोफयील चेक करती है तब पता चलता है की संकेत रिया के किसी फेस्बुक फ्रेंड का फ्रेंड थाऔर रिया ने उसकी फ्रेंड रिक़्वेस्ट पहले ही एक्सेप्ट की थी... मेसेज मे उसने लिखा था ... 

संकेत: "हाय रिया,  हम एक दूसरे को नही जानते पर फिर भी आपने मेरी रिक़्वेस्ट एक्सेप्ट की इस लिये थैंक यु ... 

रिया इस मेसेज का रिप्लाइ करती है " यु आर वेल्कम"... संकेत आन्लइन ही था ...

संकेत: हए रिया हाव आर यु ? लेट मि इंट्रोड्यूस माय सेल्फ... मि संकेत, फ्रोम गुजरात अहमदाबाद

रिया: ओह्ह मि अल्सो फ्रोम अहमदाबाद , लेकिन शादी के बाद से मुंबई रहती हु... 

संकेत: रिया यू लूक्स रियली ब्यूटिफुल आई एम जेलस ओफ योर हस्बेंड...

रिया: स्टोप टु फ्लर्टिंग संकेत ... मैं जानती हूं तुम कहते हो उतनी कोई मै खूबसूरत नही हूं ... 

संकेत: मैं सच कह रहा हु रिया... आई रियली लाइक यू. 

रिया: क्या? मैने तुम्हारी रिक़्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली और हाय हेलो कर लिया इसका ये मतलब नही की तुम इसका कुछ और मतलब निकालो ... शायद मेरी ही गलती हो गयी जो तुम्हारे मेसेज को रिप्लाइ दिया... बाय

ये मेसेज लिखकर रिया फेस्बुक बंद कर देती हे... वोह सोचती हे कैसे होते हे लोग ... सिर्फ बात करो तो शुरू ही हो जाते हे ... और वो मोबाइल मैं टाइम देखती हे तो शाम के 5 बज चुके होते हे , वो सब वाइंड अप करती हे और घर के लिये निकलती हे...

संकेत एक 35 साल का हैंड्सम नौजवान हे ... एक मल्टिनेशनल कम्पनि मैं एच आर के तौर पर जोब करता हे वेल सेटल शादीशुदा हे, एक देढ साल का बेटा भी हे... पर आज भी वो किसी भी खूबसूरत लडकी को झट से पटा लेता हे ... उसे खुद पर काफ़ी यकिन हे,  फेसबुक पर भी वह आसानी से लडकी पटा लेता हे और इसी वजह से रिया के रिप्लाइ के बाद वो सोचता हे की आज पहेली बार कोई लडकी हाथ से निकल गयी... शायद मेने बहुत जल्दबाज़ी कर दी... क्या किया जाये ... एक और ट्राय करते हे ... जाने दो कही भड़क वडक गयी तो ... कुछ देर सोचने के बाद वो डिसाईड करता है कमसे कम एक सौरी का मेसेज तो करते हे ... 

रिया घर पहुचती है और फ्रेश होकर वो बेडरूम मे चेंज करते हुए आइने मे खुद को निहारती हे ...

रिया के बारे मे कहा जाए तो वो प्यूर इन्डियन लूक वाली सीम्पल और खूबसूरत औरत है, मिडियम फीगर है,  वह साडी मै हो और कमर तक आने वाले लंबे घने बाल जब वो खुले छोडती हे तब उसकी खूबसूरती मै चार चांद लग जाते है ... उसने फाइन आर्ट मै मास्टर किया है, बहुत बेहतरीन पेंटर है और अब कोलाबा मे उसका खुद का एक लेडी जीम है... रिया खुद की खूबसूरती पर बहुत गर्व करती है , और इसी एटिट्यूड की वजह से वो किसी से जल्दी बात करना अवोइड करती है ...

डिनर और बाकि सारे कामो मै रिया संकेत के साथ चेट वाली बात पूरी तराह भुल जाती हे... वो अपने पति अनुकल्प का इंतज़ार करते हुए टीवी देख रही है की उसकी मोबाइल की रिंग बजती हे ... देखती है तो उसकी सबसे बेस्ट फ्रेंड अदिति का कोल है जो अब ओस्ट्रीलीया मै रहती है...

अदिति: हाय रिया ... कैसी हो ?  10 दिन हो गये ना कोई कोल, ना मेसेज क्या बात है ? सब ठीक तो हे ना ?

रिया: अदि सब ठीक हे बस कुछ दिनो से काम और घर के बीच बिजी थी तो रह गया ... तु बता कैसी हे ? क्या चल रहा है आज कल ? 

अदिति: सब बताउंगी वहा आकर

रिया: क्या ? यहा आकर मतलब ? तु इन्डिया आ रही है ?  कब ??

अदिति: नेक्स्ट वीक ... यही बताने कोल किया था ... में और मेरा बोईफ्रेंड अभि दोनो ही आ रहे है ... चल बाद मै कोल करती हुं थोडी जल्दी मे हुं ... बाय ... टेक केर...

रिया बहुत खुश थी क्योंकी अदिति रिया की कालेज टाइम की और सबसे क्लोज फ्रेंड थी... उन दोनो के बीच कोई ऐसी बात नही थी जो दोनो ने एक दूसरे से शेर ना की हो... वो सोच में डुबी हुई थी की डोर बेल बजती हे... वो डोर ओपन करती हे ,सामने अनुकल्प खडा है, दोनो अंदर आते है, अनुकल्प बेडरूम मैं जाता है और रिया डाइनींग टेबल पर खाना लगाती है... फ्रेश होकर अनुकल्प आता है और दोनो खाने बैठते है और कैजुअल बाते होती है ... रिया अनुकल्प को अदिति के इन्डिया आने के बारे में बताती है,अनुकल्प सिर्फ गूड इतना ही रिप्लाइ करता है, जल्दी डिनर नीपटा कर वो रिया को बताता है की वो बहुत थका हुआ है और कल जल्दी जाना है तो सोने जा रहा है, तुम अपना डिनर आराम से कर लेना... अनुकल्प के जाने के बाद रिया अपना डिनर  कम्प्लिट करके सब काम निपटा कर टीवी ओन करके बैठती है, पर उसके दिमाग मै खयाल दौड रहे है...अदिति, रिया और अनुकल्प कोलेज से एक साथ है और अछछे दोस्त भी, फिर भी अदिति के इतने सालो बाद इन्डिया आने कि खबर सुन कर अनुकल्प का कोई रिय्क्शन नही ! ... आजकल ऐसे ही चलता है, औफिस से आकर अपना डिनर कम्प्लिट करके वो सीधा बेडरूम मैं चला जाता है... या तो औफिस काम निपटाने में जुड जाता है या फिर सो जाता है... कितने दिन हो गये हमें रिलैक्स होकर साथ बैठ कर बातें किये हुए... 

इन सब खयालों मैं डूबी हुई रिया हौल मैं सोफे पर बैठे बैठे कब सो गयी पता ही नही चला ... टी वी की रोशनी  बीच बीच मैं अन्धेरे कमरे मैं कुछ देर के लिये झगमगाती रहती हैं...

---  शेष अगले अंक में 

 

 

chapter 02

 

subah jab riya ki aankh khulati hain to subah ke 5.30 baje hain. riya ki nind abhi puri tarah se khuli nahi hain. uske vo bikhare baal, alsayi si aadhi khuli aankhe uski khubsurti ko char chand laga rahe hain. par anukalp ke paas ye sab dekhane ke liye vaqt hi nahi. riya uthhkar dekhati hain anukalp bedroom main so raha hain. vo apane routine kaam main lag jati hain. nahadhokar freash hokar vo kitchen main aati hain aur breakfast ready karti hain. tab tak anukalp bhi uthh kar freash hokar dining table par aata hain. 

riya : good morning anu

anukalp : very  good morning     (kehakar apna juice or breakfast complete karne main lag jata hain)

riya anukalp se baate kar rahi hain lekin anukalp sir hmmm , haa, ok main reply karta hain. breakfast complete hone ke baad

anukalp: suno riya aaj sham ko jaldi free ho jana, hame party main jana hain. 6.00 baje tak main tumhe jym se hi pick up kar loonga. 

kehakar vo nahane chala jata hain. 

riya use jaate dekhati rehati hain. use anukalp ki in parties main jaana bilkul achha nahi lagta. aisa nahi  ki use parties pasand nahi par anukalp ki ye paries mostly business parties hoti hain. yaha anukalp apne group main vahi kaam ki baato main busy ho jata hain aur riya ek kone main apna drink liye bore ho rahi hoti hain. 

anukalp ready hokar jaate hue fir se ek baar remind karvata hain, or nikal jata hain. 

riya bhi kaam niptakar jym ke liye nikal jati hain. 

riya apne routine main sanket  ke bare main or useke sath hue chat ke bare main bilkuul bhul hi chuki hain.

evening ko anukalp time par use pic up kar leta hain or vahi boaring party main vo ek kone main drink ka glass liye bore ho rahi hain. tabhi use aditi ka call aata hain. vo call receive karke ek taraf chali jaati hain or baat karne lagti hain.

aditi : hii medam kyaa chal raha hain ? 

riya : kuchh nahi vahi anukalp ki boaring party main bore ho rahi hoon.

aditi : muze india aane do is anukalp ke bachhe ko ji bhar kar danti  hoon. kamina muze to bhul hi chuka hain, par kamse kam teri care to kar le. 

riya aur aditi hasne lage hain. 

aditi: anyways medam, party main koi handsom hunk ho to affair kar lo. fir dekho kaise apne aap jelous hota hua anukalp ka bachha khicha aayega tumhare pichhe. 

aditi ki baat sunkar achank hi riya ko fb, chat or sanket yaad aata hain. vo aditi se sanket ke sath hue chat ki baat share karti hain aur kehati hain 

aditi : oye  hoye ,  pic vic dekhi  yaa nahi uski ? handsome hain kya ? 

riya : shut up yaar. stupid norma chat main sidha flirtng par aa gaya. kisase baat kar raha hain. kyaa baat kar raha hain. kuchh to sencible hona chahiye.

aditi: array its ok yaar aaj kal yahi chalta hain direct point par aa jaao. muze to achha laga ki usne sidhe sidhe jo tha vo bol diya.  agar decent, handsome guy hain to as friend chat karne main koi problem nahi.  

ye baat chal rahi hain itne main anukalp riya ko aavaj deta hain. riya aditi ko baad main baat karti hoon kehkar call cut karti hain. anukalp aur riya vaha se nikalte hain. raste main riya aditi ne jo kaha uske baare main soch rahi hoti hain. sanket dikhane main to handsome aur decent lagata hain. may be vo casual flirting kar raha ho. agar vo achhe se baat karta hain to chat karne main koi harz nahi. vo apnani soch main khoyi hain itne main ghar aa jaata hain use pata bhi nahi chalta. 

ghar main jaakar anukalp or riya drawig room main baithte hain. 

anukalp: (relax hote hue) honey tum bata rahi thi aditi aa rahi hain. main puchh na hi bhul gaya , kaisi hain vo ? aur use kehana time lekar aaye aur thode din yahi par ruke. 

riya: haa vo kuchh din yahi rikane vali hain. or sath main uska boy friend bhi aane vala hain.

anukalp: ohh thats good. to uske aane par kuchh plan karte hain. 

riya anukalp ki iss baat se khush ho jaati hain. vo anukalp ke paas baith kar uske kandhe par sar rakhti hain. anukalp use nazdik leta hain aur uske chehare ko pakad kar jaise hi apna chehara nazdik le jata hain vaha uske phone ki ring bajati hain. vo call receive karta hain. aur kuchh baat karke riya ke paas aakar kehata hain sorry honey urgent hain cliant ka. see you in morning. kehahar study rooom main chala jata hain. riya bhi bedroom main jati hain or change kar leti hain. 

vo bedroom main apna laptop start karke facebook kholti hain to uske messanger main sanket ke messages hain. vo opean karke dekhati hain to sanket ne apne last chat ke liye appologize kiya hain. usane likha hain ki vo casualy flirt kar raha tha but riya ko hurt karne ka uska koi irada nahi tha. uske jo 3 4 messages hain usmain bahot baar sorry likha hua hain. riya ko lagta hain shayad sanket ke baare main raay kayam karne main usane bahot jaldi kar di hain. 

vo use its ok ka reply karti hain. 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

  

hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.