निशा आज जब अपने फेसबुक मेसेज चेक कर रही थी कि अचानक एक अजनबी का मैसेज आया ! हाय ! निशा जी क्या आप मुझे जानती हैं ? निशा को बड़ा ही अजीब लगा .... की कौन हैं ये महाशय जिसे वो जानती ही नहीं फिर वो उसे कैसे मैसेज कर रहा है ? वैसे तो अक्सर वो इस तरह के अनजान मैसेज डिलीट कर दिया करती थी | पर ! आज न जाने क्यों उसने क्या सोचा !! .... और उसके मैसेज का जवाब दिया .....नहीं तो ? फिर उसका रिप्लाई आया ...तो फिर आप और मैं फ्रेंड कैसे बन गये हैं ? मुझे क्या पता ! मैंने तो कोई फ्रेंड रिक्वेस्ट नहीं भेजी थी | आप कौन हैं मैं नहीं जानती ? ओह !! तो फिर हो सकता है हमारे किसी फ्रेंड की लिस्ट मे आप होंगी | पता नहीं... निशा क्यों उसके सवालों का जवाब दिए जा रही थी जबकि वो इस तरह की बातें पसंद नहीं करती थी | वो चैट बॉक्स बंद करने ही जा रही थी कि उसने आगे बात बढ़ाते हुए पूछा ..... “एक बात पूछूँ निशा जी अगर आप बुरा न माने तो !!! अब उसे क्रोध आ रहा था कि क्यों उसने मैसेज का रिप्लाई किया महाशय तो पीछा ही नहीं छोड़ रहे हैं ...फिर उसने लिखा, जी कहिये ! आपकी उम्र क्या होगी ? अब ये कैसा सवाल हुआ !!! न जान न पहचान कोई किसी की उम्र पूछता है भला इस तरह से वो भी किसी अनजान महिला से | निशा ने टालने की गरज से लिख दिया आपको क्या लगती है ? नहीं वो फोटो से पता नहीं चल रही कोई और फोटो भेजिए तो बता सकता हूँ | निशा एक लेखिका थी तो उसे लगा शायद कोई उसका प्रशंसक होगा इसीलिए बहाने बनाकर फ्लर्ट करने की कोशिश कर रहा है | निशा ने बात ख़त्म करने की कोशिश की और लिखा देखिये मैं एक शादी शुदा महिला हूँ आप कहीं और कोशिश करिये | अरे ! आप तो बुरा मान गयीं लगता है | देखिये ,मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं था मैं भी एक फैमिली वाला हूँ | वो तो पता नहीं क्यों ! आपका प्रोफाइल देखा तो ऐसा लगा कि जैसे मैं अब तक जिस दोस्त की तलाश कर रहा था वो आप ही हैं | मेरा नाम अविनाश है | पर आप और मैं दोस्त कैसे हो सकते हैं ? और आपने ये कैसे सोच लिया की मैं आपसे दोस्ती कबूल कर लूंगी ? निशा जी आप एक राइटर हैं और मैं चाहता हूँ कि आप मेरे जीवन पर एक कहानी लिखें | सच कहता हूँ आपकी ये कहानी रातों रात फेमस हो जाएगी | ऐसा क्या है आपकी कहानी मे....!! उसके लिए आपको मुझसे दोस्ती तो करनी पड़ेगी न ! अच्छा ठीक है अभी मैं रखती हूँ फिर बात होगी | बाय ! और फिर जो बातों का सिलसिला शुरू हुआ तो आज 4 साल बीत गए पर उनकी फेसबुक की दोस्ती एक दूसरे से बिना मिले भी चल रही है |

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.