जज्बातों की दुनिया है बड़ी अजीब
कभी हँसाते तो कभी रूलाते हैं जज्बात ।

मन में कुछ और, जुबां पर कुछ और
अच्छे अच्छों को बेवकूफ बनाते हैं जज्बात ।

खुदा ने नेमत दी इंसा को जज्बातों की,
इंसा का देखो मखौल बनाते हैं जज्बात ।

कहे सुधा..मत भूलो, देख रहा है सारा जमाना
मुखौटा उतरेगा, गिरगिटी हैं जज्बात ।

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.