हिंसा


भारतीय संविधान का अनुच्छेद २१ कहता है कि “किसी भी व्यक्ति को विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया के अतिरिक्त उसके जीवन और वैयक्तिक स्वतंत्रता के अधिकार से वंचित ने किया जा सकता” |

मूल अधिकारों का चीरहरण हो रहा है और मूल अधिकारों के संरक्षण की ज़िम्मेदारी है जिन पर वो सर्वोच्च न्यालय भी खामोश है |

तथा कथित देश भक्तों और तथा कथित गौ सेवकों के द्वारा पिछले कुछ दिनों से भीड़ में जो हिंसा हो रही है वो बहुत ही चिंता जनक है | भीड़ में बीफ के नाम पर देश द्रोह के नाम पर किसी को जान से मार देना कहाँ की देश भक्ति है | इस देश का नाम चंद लोग बदनाम कर रहे है | इस देश का नाम हिंदुस्तान है या हिंसा का स्थान कुछ समझ में नहीं आता |

धर्म के नाम पर हिंसा,जात के नाम पर हिंसा,लिंग के नाम पर हिंसा होना एक आम बात हो गई है| हिंसा लोगो के डीएनए में बस गई है फिर कारन कोई भी उन्हें तो बस एक बहाना चाहिए, कभी धर्मं के नाम पर तो कभी जात के नाम पर, और एक अभी एकदम नया नया आया है गौ रक्षा के नाम पर | आदत हो गई है इन्हें हिंसा करने की, हिंसा करके ये अपने आप को ऊचाँ दिखाने की कोशिश करते है | इस देश में मुस्लिम न होते तो ये लोग दलितों को मारते, दलित न होते तो पिछड़े वर्ग वालों से लड़ते ये भी न होते तो ठाकुर और ब्राम्हण आपस में लड़ते | अरे साहब इन्हें तो लड़ने की आदत हो गई है अगर ठाकुर न होते ये ब्राम्हण आपस में ही लड़ते की ये ब्राम्हण बड़ा होता है तो ये वाला ब्राम्हण बड़ा होता है | अपने आप को ऊँचा दिखाने में सब लगे हुए हैं | बग़दाद को ही ले लीजिए वहाँ कौन सा हिन्दू-मुस्लिम है सीरिया में कौन सा हिन्दू-मुस्लिम है, अफगानिस्तान में कौन सा हिन्दू-मुस्लिम है | कुछ नहीं है तो इनके पास शिया शुन्नी है साहब इसी बात पे ही लड़ते है |

“खुदा को बचाने वो चला जिसको बनाया खुद खुदा ने”

भले ही हमे लगता हो की देश हमारा बहुत अच्छा है विदेशो में बहुत अच्छी छवि है लेकिन हकीकत ये है कि इस देश में १६१६ साल के जुनैद को सिर्फ इसलिए मार दिया जाता है कि उसके पास बीफ होने का शक था | डी.एस.पी. मोहम्मद अयूब पंडित जो ईद के दिन मस्जिद में भीड़ द्वारा इस लिए मार दिया जाता है क्योकि वो उनकी हिफ़ाजत में तैनात था | मतलब हो क्या रहा चलती ट्रेन में कुछ लोग आ रहे है और लोगो को मार के चले जा रहे है और क़त्ल का इलज़ाम भीड़ पर | वो भीड़ नहीं वो पूरा गैंग है | बशीर बद्र ने एक शेर कहा है

“खुदा हमको ऐसी खुदाई न दें कि अपने सिवा कुछ दिखाई न दे”

पिछले कुछ महीनों में हुई भीड़ द्वारा हिंसा की हैडलाइन-

  1. Jammu and Kashmir DSP Ayub Pandith lynched: Srinagar’s Jamia Masjid remains closed on Jummat-ul-Vida-Jun, 24 2017 Source firstpost.com
  2. Fresh case of mob assault in Jharkhand on ‘child-lifter-May 23, 2017 Source timesofindia.com
  3. Muslim boy stabbed to death on train after argument turns into religious slurs-Jun 27, 2017 Source hindustantimes.com
  4. CPI(ML) activist Zafar Hussain lynched to death for resisting photography of women defecating in open- June 17, 2017 Source finacialexpress.com
  5. Passengers Stab man to death on board Delhi-Mathura train, suspecting him of Carrying beef- Jun 23, 2017 Source huffingtonpost.in
  6. Three men beaten to death in West Bengal’s Dinajpur district for allegedly stealing Cows-Jun 24, 2017 Source indianexpress.com
  7. Jharkhand: Police drag 19-year- old Musim out of his house, shoot him dead-Jun 24, 2017 Source twocircles.com
  8. Alwar attack: Gau rakshaks killed a dairy farmer, not cattle smuggler-April 7, 2017 Source indianexpress.com
  9. Taking Cows home, two men assaulted on way to greater Noida village- May 6, 2017 Source indianexpress.com
  10. Tamil Nadu officials taking cows for breeding programme attacked in Rajasthan- Jun 12, 2017 Source indianexpress.com
  11. Muslim man tied to tree, beaten to death for being in love with Hindu woman-May 30, 2017 Source hindustantimes.com




इन देश भक्तों ने अपने हिसाब से देशभक्त होने की एक सीमा तय कर ली है और अगर इसके बहार कोई गया तो गद्दार हो गया | अभी हाल में ही DU की एक छात्रा गुरमेहर कौर ने सिर्फ ये कह दिया कि मेरे पापा को पाकिस्तान ने नहीं युद्ध ने मारा तो इस पर बवाल हो गया, देशभक्ति की सीमा तय करने वालो ने उसे देशद्रोही घोषित कर दिया | आमिर खान ने जब ये कह दिया कि उन्हें अब डर लगता है तब तो बात ही क्या थी देश निकासी का फरमान देश भक्तों ने जारी कर दिया आखिरकार आमिर मुस्लिम जो ठहरे गद्दारी तो जैसे उनके रगों में बसी हो |

हिंसा करने से रोकने में माँ बाप का रोल अहम हो सकता है उनको अपने बच्चो को भीड़ में ज्यादा घुमने से और किसी धर्म की बुराई करने से रोकना चाहिए | हर धर्म में अच्छी बातें है आप उन्हें हर धर्म की अच्छी बातें बताये |

अगर किसी को लगता है की गौ रक्षा होनी चाहिए तो वो सरकार से अपनी माँग रखे, भारत सरकार से अपील की जाये की वो गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करे तथा गौ हत्या पर शक्त कानून लाये | ऐसे किसी को जान से मार देना कहाँ की इंसानियत है | ट्रेन में एक युवक को मारा जाता है ट्रेन में बैठा हुआ कोई भी व्यक्ति नहीं बोलता है | वाकई में इंसान के साथ साथ इंसानियत भी मर गई है | मुस्लिम भाइयो को भी गौ हत्या पर अपना एक स्टैंड लेना चाहिए क्योकि गौ हिन्दू धर्मं की आस्था से जुड़ा मुद्दा है और मुस्लिम भाइयो के रहनुमाओ को बोलना चाहिए की हम गौ हत्या पर उनका क्या रुख है |

ये देश अशोक का है, ये देश गौतम बुद्ध का देश है, ये देश महावीर स्वामी का देश है ये देश का है ये देश गाँधी का है ये देश अहिंसा का पुजारी रहा है | इस देश में इस तरह भीड़ में हिंसा नहीं होना चाहिए | ये देश सर्वधर्म समभाव की भावना में पला बढ़ा है और उम्मीद है ये भावना बरक़रार रहेगी |

Note- किसी को बुरा लगे तो माफ़ी मांगता हूँ मेरा मकसद किसी को ठेस पहुँचाना नहीं है | शुक्रिया |

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.