सब कुछ रोज़ जैसा ही था कपूर विला में I ब्रेक फ़ास्ट लग गया था I मम्मा कपूर टोस्ट में मक्खन लगा रही थीं ,बेबी कपूर चहक कर पिछले दिन की कॉलेज की बातें बता रही थी और पापा कपूर अखबार पढ़ते हुए नाश्ता कर रहे थे I पर फिर भी पापा कपूर के चेहरे पर कुछ असहज था जो मम्मा कपूर ने भाँप लिया था I

बेबी के बाय कहकर निकलते ही मम्मा, पापा से मुखातिब हो गई I

“क्या बात है?,बेबी इतने शौक से अपने कॉलेज के पहले दिन के बारे में बता रही थी और आप बस हूँ .हाँ I “

“बेबी को अब थोडा समझाओ तुम I बड़ी हो रही है वो I’’ पापा ने अखबार टेबल पर रख दिया I

“ मै समझी नहीं I’’

‘’मतलब ढंग के कपडे पहना करे , कुछ इंडियन टाइप ,सलवार कमीज़ वगेहरा I हमेशा बस टाइट जींस, शॉर्ट्स और टॉप I’’ अपनी आवाज़ को सहज रखने की कोशिश कर रहे थे वो I

‘’ हूँ I’’ मम्मा की आँखों में नासमझने वाले भाव थे I

‘’ यू नो , मै वो पुराने टाइप का नहीं हूँ फिर भी .., हर तरह के लोग हैं बाहर I समझ रही हो ना तुम ?’’ बात ख़त्म करने के अंदाज़ में अब वो खड़े हो गए थे I

‘’ कल मैंने तुम्हारे ऑफिस फोन किया था I कोई नई आवाज़ थी I पुरानी सेक्रेटरी नेहा कहाँ गई ?’’ मम्मा कपूर ने ब्रेक फ़ास्ट समेटते सवाल दागा I

“ हटा दिया उसे I एकदम बहन जी टाइप थी वो I ये वाली ... एकदम मॉर्डन और स्मार्ट है I’’ उनके चेहरे पर धूप खिल आई थी I

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.