दूसरा थप्पड़

रंजना जायसवाल

दूसरा थप्पड़
(56)
पाठक संख्या − 10533
पढ़िए
लाइब्रेरी में जोड़े
Anish
too gűd... very romantic... और वो भी अलग ही लेवल का... धन्यवाद 💝💞💝👏👏
Sunil
Bahut achhi, perfact story
रिप्लाय
Surbhi
सुन्दर कहानी.. मध्यम वर्ग की मनोदशा को बहुत ईमानदारी से शब्द दिये... कभी कभी समझ ही नहीं आता... वक़्त के साथ चले या अपने संस्कारो के साथ
रिप्लाय
Parveen
अच्छी कहानी है
रिप्लाय
MOHD
nice story
रिप्लाय
Prince
great story
रिप्लाय
Arun
क्या सचमुच ऐसा होता है
रिप्लाय
Uma
Uma
Realty
रिप्लाय
satya prakash
behtrin
रिप्लाय
Ashutosh
क्या बात है बेहतरीन . प्रेम की तलाश में लोग कहा से कहा तक चले जाते है.
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.