जोहरा आपा की जिंदादिली को मेरा सलाम

राजीव आनंद

जोहरा आपा की जिंदादिली को मेरा सलाम
(2)
पाठक संख्या − 372
पढ़िए
लाइब्रेरी में जोड़े
सविता
मै उन सौभाग्यशाली लेखकों मे से हूँ जिन्हें ज़ोरा सहगल जी के पड़ोस में रहने का तथा उनका साक्षात्कार लेने का सौभाग्य प्राप्त हुआ तथा वह दैनिक जागरण में प्रकाशित भी हुआ था । मुझे उन्होंने वृद्धा वस्था में सक्रिय रहने का मंत्र बताया तथा बताया कि वह खाली समय में अखबार में दी गयी कुछ पहेलियाँ, कुछ Games खेल कर अपने mind को active रखती है ।
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.