मेरा रेप हुआ था!

प्रिया गर्ग

मेरा रेप हुआ था!
(89)
पाठक संख्या − 16494
पढ़िए
लाइब्रेरी में जोड़े
Chander
एक ऐसा विषय उठाने के लिए आपका धन्यवाद जिस पर साधारणतया कोई विचार नहीं करता ज्यादातर अविश्वास ही करते है। एक बदसूरत हकीकत को बड़े ही सुंदर कथानक में पिरोया है आपने। आभार
रिप्लाय
Sonam
khud ek ladki hu isliy smjh nhi aa rha ki kya likhu pr aisi ladkiyo ko jo b sja di jaye km hogi..
रिप्लाय
પાગલ
Aapki story bahut hi achchhi hai
रिप्लाय
Krishna Sharan
very nice
रिप्लाय
Rahul
सुन्दर कथानक। अन्तिम हिस्सा कुछ शिध्रता में लिखा मालूम पड़ता है।
रिप्लाय
विशाल
सबसे पहले इस कहानी के लिए आपको बधाई। वैसे तो मै कोई लखेक नहीं हूँ,न ही लिखने के बारे में कुछ जानता हूँ ।लेकिन कहनियाँ मुझे बचपन से ही पसंद रही है।मेर लिए इस कहानी का सबसे अहम भाग है,जो विषय आपने चुनी है और उसके साथ आपनें न्याय भी किया है। ।।धन्यवाद।।
रिप्लाय
Shilpa
wow just fell in love with the right up
रिप्लाय
aasiya
i think u will be became great writer...👍
रिप्लाय
Gaurav
super
रिप्लाय
Rajesh
very nice story rap sirf ladkiyo ka nahi balki ladko ka bhi hota h mujhe is baat se bahut khusi h ki aap ek ladki ho kar ladko k bare me itna socha apki soch ko salam👍👌
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.