तुझसे पहला और आख़िरी रिश्ता

प्रज्ञा तिवारी

तुझसे पहला और आख़िरी रिश्ता
(2)
पाठक संख्या − 45
पढ़िए
मुईन अख्तर
दर्द वयां तो हुआ मगर, लगता है अलफ़ाज़ कम पड़ गए हैं। फिर भी अच्छी लाइन्स है।
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.