यह क्या किया सितमगर

प्रभु दयाल मंढइया

यह क्या किया सितमगर
(7)
पाठक संख्या − 3779
पढ़िए

सारांश

भोगी हुई तो नहीं किन्तु सामने घाटी घटना को विस्तार अवश्य दिया है ,मेरे दिल ने एक दर्द महसूस किया था, वह कागज पर उतारने का प्रयास किया .
धर्मेंद्र विश्वकर्मा
क्या सोचा और क्या निकला.....?
रिप्लाय
Rahul Yadav
very nice
रिप्लाय
Namrata Thakur
Nice story
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.