करवा चौथ

प्रभु दयाल मंढइया

करवा चौथ
(18)
पाठक संख्या − 9134
पढ़िए
Rishabh Yadav
दीर्घ सोच
सुनील आकाश
जहाँ पुरुष स्त्रियों को सताते हैं, वहीं ऐसे उदाहरण भी बहुत हैं। किंतु स्त्री समाज ऐसी घटनाओं को स्वीकार नहीं करता है और ऐसी घटनाओं के जिक्र करने को पुरुषों की ओछी मानसिकता बताता है।
Ramendra Sinha
बहुत सटीक
Priyal Dubey
वाहियात कहानी
Vidisha Singh
कुछ अधूरी प्रतीत हुई |
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.