रिक्शा वाले अंकल

निजा

रिक्शा वाले अंकल
(251)
पाठक संख्या − 44042
पढ़िए
Ashutosh Pandey
वास्तविकता उजागर की गई है
Anjaan
माँ बाप को बच्चों का दोस्त बनना चाहिए ,उन पर विश्वाश करना चाहिए। और कोई पूजा ऐसे रिक्शा वालो की भेंट न चढे।
Bijendra Sinha
एक सिहरन सी आ जाती है ये सोचते हुए भी..आपने इसे बखूबी शब्दों में पिरोया है..ये हम अभिभावकों का कर्तव्य बनता है कि बच्चों के वर्ताव में ऐसे किसी भी परिवर्तन को कभी भी हल्के में न लें और जानने की कोशिश करें कि कहीं उनके साथ कुछ असामान्य तो नहीं घत रहा..उनको विश्वास में ले के रखें ताकि वो अपने साथ हो रहे ऐसे किसी भी अनुचित वर्ताव को बेहिचक शेयर कर सकें..
Vivek
आज की सच्चाई को बयां करती कहानी! शानदार अभिव्यक्ति!!
Archana Chourey
माता पिता को हमेशा बच्चों के व्यवहार पर ध्यान देना व बातचीत करना चाहिए
Dr Kamal Satyarthi
बढती बच्चियों के साथ माँबाप को बहुत सावधान रहना होता है।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.