सीख

नीतू सिंह

सीख
(5)
पाठक संख्या − 4125
पढ़िए

सारांश

हमने दूसरों के लिए जाने क्या-क्या मापदंड बना रखे हैं, ऐसी-ऐसी कसैटियाँ जिन पर हम खुद कसा जाना पसंद नहीं करेंगे। इन मानसिक दीवारों को ढहाना आखिर हम कब सीखेंगे?
धनंजय कुमार
कहानी का कथानक सही है लेकिन दृष्टांत की अधिकता कहानी को बेकार कर रही है।
Namrata Thakur
बेहतरीन कहानी
Kamlesh Kumar Rawat
Bahut shaandaar kahani.... Kahani Padte samay Mann ke bhaav idhar udhar hote rahe....
lekhdas swami
बहुत ही मार्मिक व शिक्षाप्रद व समाज के एक तबके पर प्रहार करने वाली ज्यादातर घटित होने वाली एक आत्मकथा जैसी कहानी 👌👌👌
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.