हवा

नीतू सिंह

हवा
(71)
पाठक संख्या − 3759
पढ़िए

सारांश

शशांक भूत-प्रेतों में विश्वास नहीं रखता। ऐसी बातें करने के लिए अपनी माँ का भी मज़ाक उड़ाया करता था। वह एक बिंदास, बेबाक, हँसमुख लड़का था। मगर उसकी हँसी उस दिन गायब हो गई जिस दिन...।
Karuna Jha
gajb, dradiya eakdum
Vishal Suriya
saans rok di aapne to hamari
Subhash Jha
sotry would be good if completed.. try to make climax more entertaining. it was like u made tasty biryani and Instead of putting it in mouth u just showed digested biryani(poop)
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.