काली जुबान

मिनाक्षी सुकुमारन

काली जुबान
(64)
पाठक संख्या − 10552
पढ़िए
RAM KUMAR AAZAD
एक स्त्री को लज्जित करती कहानी कहानी का सार जो कहना चाहता है वो घटिया मानसिकता का द्योतक है
Shepherd Sukhveer Singh Pardhan
भारतीय नारी का प्रारूप ऐसा ही है चाहे पति कैसा भी हो मरते दम तक उसी के गुण गाती है
rajendra choubisa
नारी की जिन्दगी बद से बदतर होती हुई
Yash Singh
कहानी का आधार ठीक था ,लेकिन दम्पतियों के लड़के को चन्दू और नन्दू दो नामो से पुकारा गया ।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.