इश्क़ की सजा

मनीषा

इश्क़ की सजा
(164)
पाठक संख्या − 13585
पढ़िए
Bishwajeet Kumar
its just related to my life.... thank you manisha to pen down these feelings....9334146209.
ओमप्रकाश शर्मा
सुन्दर सामाजिक कहानी |
Juhi Ahmed
pyer kyu krti hai phir .....izzat hi rkhni hai to
Prateek Shukla
wahi ghisi piti story kuch Naya likho,
रिप्लाय
gagan
अच्छी कहानी थी
Vikas Srivastava
wahiyaat, banwaas
रिप्लाय
Amit gupta
अच्छी है
विवेक पाण्डेय
शब्दों को उकेरा नहीं गया है.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.