लतिका (सखी) शर्मा
प्रकाशित साहित्य
42
पाठक संख्या
8,384
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

मुझे छुट्टी दे दो कुछ दिन के लिए, अब तेरी बेरुखियाँ बर्दास्त नहीं होती, कुछ दिन न मुझे याद करना, न मुझको ही तुम याद आना। मेरे सपनों से भी कुछ दिन को अपना वास्ता तोड़ जाना। जो कभी मिल जाऊँ, या फिर, कभी तेरी राह में दिख जाऊँ। यूँ मुह मोड़ लेना जैसे, अजनबी हूँ तुम्हारे लिए। सब भूल जाना मुझे भी, कुछ दिन मेरे लिए। ©सखी


Paakhi Jain

1 फ़ॉलोअर्स

वीणा वत्सल सिंह

5,188 फ़ॉलोअर्स

Binod Sinha "सुदामा"

2 फ़ॉलोअर्स

bhavik

0 फ़ॉलोअर्स

Ghanshyam Sabalpara

0 फ़ॉलोअर्स

Sunil Kanuga Kanuga

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.