द हीरो

इंदिरा दांगी

द हीरो
(52)
पाठक संख्या − 2415
पढ़िए
Sonam Singh
Bahut hi khubsoorti se likha h apne
Navneet Audichya
adbhut, dardnak kintu bahut badaa saty
Rajiv Jain
bahut hi Sundar rachna
Vijay Hiralal
bahut hi sunder Rachna.kya garibi ki is se bhi Achi vyakhya ho sakti hai. shayad ha but anyways bahut hi sunder.
विरासनी सिंह
दिल को छूने वाली अद्भुत रचना.सच में भूख से बड़ी इंसान की कोई भी मजबूरी नहीं होती हैं.
Noopur Awasthi
bhook s bada dushman koi nhi h insaan k
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.