समर्पण

गोपालजी Gopalji

समर्पण
(4)
पाठक संख्या − 46
पढ़िए

सारांश

परमात्मा के प्रति समर्पण को चित्रित करती कविता, समर्पण से प्राप्त आनंद को व्यक्त करते शब्द । शायद हममें भी परिवर्तन ला सके और हम उस आनंदघन के प्रति अपने दिलों मे समर्पण पैदा कर सकें ।
Meenakshi Srivastava
प्रभु के प्रति ...अपने स्वामी के प्रति समर्पण का श्रेष्ठ भाव चित्रण हुआ है । शुभकामनाएं ।
Ranjana Sairaha
जीवन का उत्तरार्ध,सांध्यबेला प्रभु चरणों में समर्पण,यही है सच्ची गति।सब कुछ है उस चरम तत्व का ।संसार से विरक्ति और प्रभु में आसक्ति।'तमसो मा ज्योतिर्मय'......अज्ञान से प्रकाश की ओर ले चलो,राम रसायन पिला दो हे प्रभु!
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.