खूँटों से बंधे लोग

दिलबागसिंह विर्क

खूँटों से बंधे लोग
(67)
पाठक संख्या − 20940
पढ़िए

सारांश

घर घुसते ही रमेश ने मोबाइल पर वाई-फाई ऑन किया | व्हाट्स-अप के नोटिफिकेशन्स देखे | सबसे ज्यादा मधु के मैसेज थे | शुरुआत हेल्लो, ही, के साथ थी, फिर स्माइलीज थी, नीली, लाल फिर कानों में से धुआँ निकालती गुस्से से भरे चेहरे वाली औरत की तस्वीर थी और आखिर वाला मैसेज था – ‘ किसके साथ आवारागर्दी कर रहे हो |’
Vandana Verma
ye Kahani nhi hai,aaj ka samaj h,bahut zaroori h apne samay ko darshane wali bat samne rakhna
Krishna Bhandari
साला इंसान शादी के बाद भी तड़पता रहता है ।क्या है ये आखिर
kamal sd jangid
wavvv... bahut badiya likha👌👌👌
Ajeet Singh
story bahut realistic thi. achha lagaa
रिप्लाय
Ramendra Sinha
अति सुन्दर
रिप्लाय
Shakti Pandit
simple bt grt story..👌
रिप्लाय
santosh
ati sunder lekh khute se bandhe rahne me hi bhalai hai....
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.