खूँटों से बंधे लोग

दिलबागसिंह विर्क

खूँटों से बंधे लोग
(20)
पाठक संख्या − 33853
पढ़िए
लाइब्रेरी में जोड़े

सारांश

घर घुसते ही रमेश ने मोबाइल पर वाई-फाई ऑन किया | व्हाट्स-अप के नोटिफिकेशन्स देखे | सबसे ज्यादा मधु के मैसेज थे | शुरुआत हेल्लो, ही, के साथ थी, फिर स्माइलीज थी, नीली, लाल फिर कानों में से धुआँ निकालती गुस्से से भरे चेहरे वाली औरत की तस्वीर थी और आखिर वाला मैसेज था – ‘ किसके साथ आवारागर्दी कर रहे हो |’
Shakti
simple bt grt story..👌
रिप्लाय
santosh
ati sunder lekh khute se bandhe rahne me hi bhalai hai....
रिप्लाय
Mahesh
great
रिप्लाय
Mirza
thik that janab
रिप्लाय
sudha
👌👌
रिप्लाय
Anshul
we are highly addicted to aur virtual friendship...without knowing what exactly this relation is,..bhut ache se likha h sir ji
रिप्लाय
Anjali
very nice Ji
रिप्लाय
Gyanlaxmi
लेख अच्छा है ा धन्यवाद
रिप्लाय
महेश
👌👌👌
रिप्लाय
neeraj
Bahut hi khoobsoorat Rachna hai
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.