नानी तो.

आशा सिंह गौर

नानी तो.
(105)
पाठक संख्या − 7419
पढ़िए

सारांश

ऐसी मान्यता है कि बड़े बुज़ुर्गों की आत्मा हमेशा हमारी रक्षा करती हैं और इस दुनिया से जाने के बाद भी अपने बच्चों की हिफाज़त करती है। इसी पर आधारित है मेरी कहानी, "नानी तो..."
Puran Bisht
Good but not exciting
रिप्लाय
Karuna Jha
Weldone
रिप्लाय
Sonam Kumari
ye sach me hota hai! good story..
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.