छलावा

अरुण गौड़

छलावा
(91)
पाठक संख्या − 2510
पढ़िए

सारांश

राजू ने उसके बारे मे बात शुरू की थी वो बताने लगा की छलावा नाक मे बात करता है, उसके पैर पीछे की तरफ मुड़े हुए होते हैं, उसकी परछाई नही दिखती वो बहुत तेजी से पीछे भागता है और किसी का भी रूप बदल लेता है, और अगर...........
Krishna Siddharth
1st class story, perfect characters.
AMIT SHAKYA
बहुत मजेदार कहानी थी
Geeta Singh
balpan ka achcha cittaran
Ankit Mishra
😀😀😀😀acchi thi
Sidhartha Gupta
Kindly keep writing such stories. It was a delight to read!
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.