प्रिया, मेरी भावी सखी!

अर्पण कुमार

प्रिया, मेरी भावी सखी!
(7)
पाठक संख्या − 710
पढ़िए
लाइब्रेरी में जोड़े

सारांश

कन्या भ्रूण हत्या एक माँ अपनी बेटी को नहीं बल्कि एक सहेली अपनी दूसरी सहेली को खो देती है।
Mik
Mik
अति सुंदर लेखनी।।।
उम्मेदसिंह
सबसे आगे अर्पण ही होता है! अर्पण-समर्पण की जय हो! सुन्दर, सार्थक, भावपूर्ण, सम्प्रेषणक्षम पत्र के लिये अभिनन्दन और बधाई! समय मिले तो साधक का श्राद्धोत्सव देखें मित्र!
Vivek
Such a nice collection/thought plz read...
पंकज कुमार
भ्रूण हत्या पर लिखी गई मार्मिक पाती,,,,,
Anju
कन्या भ्रूण हत्या जैसे गंभीर विषय को अपनी पाती में बड़े ही सरलता और सहजता से बयान करने के लिए हार्दिक बधाई !!
सुषमा
बहुत बढ़िया !! 
अर्पण
आभार प्रतिलिपि एक ऐसी पाती, जिसे दुनिया की कोई माँ लिखना नहीं चाहेगी।
Uma
Uma
Great kudos to the writer it is very hard touching story.. Regards Umashankar
रिप्लाय
Puja
It's very touchy and heart throbbing letter written by a mother, which depicts the pain of a mother of an unborn female baby. It addresses the Female foeticide issues on a very personal level.
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.