लव लेटर

अखिलेश कुमार

लव लेटर
(73)
पाठक संख्या − 5549
पढ़िए

सारांश

लगभग हर किसी से बचपन में यह समय आता है की उसे बड़े भाई या बहन के प्यार को मिलाने के लिए postman का भी काम करना पड़ता है और इसी के में अच्छी ख़ासी धुलाई भी हो जाती है। तो दोस्तों प्रस्तुत है मेरी कहानी जो की मेरे ही अनुभवों पर आधारित है इसमें एक दलित और एक ब्राह्मणी के अन्तर्द्वन्द को भी दर्शाया गया है।
Pankaj Kumar
ऐसे ही रोमांच बनाये रखिये
Chetna Singh
आगे क्या हुआ? ?????
Kanchan Bhardwaj
yeh kya hai
रिप्लाय
Kumkum Agrawal
0
रिप्लाय
Kumar Shekhar
लगभग ठीक है।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.