ईश्वर, तू महान है।

अभिषेक हाड़ा

ईश्वर, तू महान है।
(16)
पाठक संख्या − 1094
पढ़िए

सारांश

एक गरीब किसान, जो साल भर थोड़ा बहुत कमा पाता है, उसे एक कार से चोट भी लग जाती है पर फिर वो क्यों कहता है, ईश्वर तू महान है।
Gulshan mahawar
dekha jaae to kahani samanya si hai..lekin kahani ka prastutikaran bhut hi shandaar or rochak trike se Kiya...kahani achhi hai...
रिप्लाय
Vimal Kumar Singh
अभिषेक जी आपने एक अच्छी कहानी लिखी वाकई आज लोग अच्छे बुरे की पहचान नही कर पाते हम जिनको गलत समझते वही हमारी धारणा को गलत सावित कर देते है। भाषा शैली रोचक है कथा वस्तु ठीक है।
रिप्लाय
देवराज सिंह
संस्कारों और वर्तमान परिवेश का अद्भुत समावेश बहुत ही अच्छी कहानी है अभिषेक जी
sharad  Kapoor
Bahut achi kahani Gramin aadmi ki vyakhya bari achi
अरुण गौड़
बहुत सुंदर....ग्रमीण आदमी का चरित्र बिलकुल सही चित्रण किया है अपने..👍
मनीषा
Nice story sir
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.