काश तुम्हे रोक पाती

अभिलाष दत्ता

काश तुम्हे रोक पाती
(235)
पाठक संख्या − 18752
पढ़िए

सारांश

जिंदगी में इतना आगे बढ़ जाना , की जब बचपन के दोस्त के बारे में जानकारी मिली , तो आंसू थमने का नाम नहीं ले रहा था ।।।।।
shushant kumar
kaash mai usko rok paata wo chali gyi....
रवि देवांगन
एक पुरुष लेखक द्वारा महिला किरदार की सुंदर अभिव्यक्ति
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.