prashant
आज के समाज में उत्पन्न विकृति को आपने उकेर कर रख दिया। कि बेटे के चले जाने पर माँ बाप ज़िन्दगी भर दुख उठाते हैं । लेकिन जब बेटा घर पर हो तो भी माँ बाप को वृद्धाश्रम में रहना पड़ता है। कौन समझे इस दुख को। आपका बहुत बहुत धन्यवाद की आपने एक कहानी के माध्यम से सच्चाई सामने लाने का प्रयास किया।
ankit
heart touching story really fantastic
Kiran
excellent story.sach ka aina dikhati sachi kahani jaisi
GADHVI
જય હિન્દ
Veena
Excellent, Hearttouching I am spellbound no words to praise my regards to Writer...
Neeru
सत्य के धरातल पर उकेरी हुई अत्यंत मर्मस्पर्शी रचना।हर कोई अपनी अपनी जगह सही पर फिर भी कहीं कुछ छूटता हुआ सा..।।।
Rishish
heart touching ...👍👌💐
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.