लव आज और कल

रीत शर्मा

लव आज और कल
(17)
पाठक संख्या − 1074
पढ़िए
लाइब्रेरी में जोड़े

सारांश

रात आधी बीत चुकी थी पर आँखों से नींद गायब थी तभी फ़ोन पर मैसेज नोटिफिकेशन की लाइट जली फ़ोन उठा कर देखा तो व्ट्सअप्प पर काशान का मैसेज था  सो गई क्या  नहीं नींद नहीं आ रही  मुझे याद कर रही थी  अभी इतने बुरे दिन नहीं आये :( यह अब रोज़ का काम बन गया था मैं और काशान एक ट्रेवलिंग साइट पर पहली बार मिले थे उसे मेरी प्रोफाइल अच्छी लगी थी और उसने मेल भेजी थी पहले हम G - TALK पर चैटिंग करते रहे फिर सुविधा के लिए एक दूसरे को फ़ोन नंबर दे दिया तब से वो और मैं दिन मैं तीन चार बार जरूर बात या कहे चैटिंग कर लेते थे। 
Vibha
wow happy ending ...
Satyaprem
अछि लिखी है, लिखते raho
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.