मैं प्यार हूँ तुम्हारा मुझसे न दूर जाओ,

तुम मीत मेरे मन के मुझको गले लगाओ।

हम साथी जनम-जनम के,

फिर ये कैसी दूरी।

जब सुर से सुर मिले हैं,

सरगम है क्यों अधूरी।

मैं गीत हूँ तुम्हारा तुम मुझको गुनगुनाओ.........मैं प्यार......।

मेरा हाथ थाम लेना,

जब कदम लगे डगमगाने।

तुम देना मुझे सहारा,

लगे तन जब लड़खड़ाने।

हम कदम बनाकर अपना संग-संग मुझे चलाओ....मैं प्यार......।

तू करम है मेरा,

तकदीर तेरी मैं हूँ।

जो हसीन ख्वाव तू है,

ताबीर तेरी मैं हूँ।

बाँहों में मेरी आकर दिल में मेरे समाओ.........मैं प्यार......।

तू सजन है मेरा,

सजनी हूँ मैं तेरी।

तेरा अंदाज है निराला,

मेरी अदा है प्यारी।

लाकर फलक से तारे मेरी मांग में सजाओ.......मैं प्यार.......।

hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.