आत्माभिमान की चोरी

नीतू सिंह रेणुका

आत्माभिमान की चोरी
(3)
पाठक संख्या − 2654
पढ़िए
लाइब्रेरी में जोड़े

सारांश

मीना एक निम्न मध्यमवर्गीय गृहणी है जो चाह कर भी अपनी रोज़मर्रा की ज़रूरतों से बाहर नहीं निकल पाती। परंतु रैना दीदी के प्रोत्साहन से वह अपनी सीमाओं के घेरे से बाहर निकलने में सफल होती होती। परिश्रम से कमाया वेतन लेकर वह घर लौट रही होती है लेकिन..।
मंजू
kahani wakai m bahut prerak har middle class ghr k kreeb h bt batua nhi khona chahiye tha
Sandeep
Really वैरी good एंड हार्ट touching story
Annapurna
जिंदगी जीना सिखाती है ये कहानी
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2015-2016 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.