ब्लाइंड लव

मनीषा

ब्लाइंड लव
(18)
पाठक संख्या − 7170
पढ़िए
लाइब्रेरी में जोड़े
Vijay
baat pyaar ki hai kahan ji. beshak maa baap se pyaar na mila par chacha toh tha jo bharpoor pyaar lutata tha. aur jawani me jab khud samjhdaar ho gai woh tab kya mtlb kisi ko apni galti ka dosh dene ka use itni samjh aa chuki thi acche bure me fark karna seekhe. par nahi pyaar andha nahi hota dost. jisme vaasna ho woh pyaar hi nahi hota. attraction tha aur attraction me hi physical hona chahta hai insaan. this is blind attraction not blind love.
रिप्लाय
ब्रजेंद्रनाथ
सीधी सादी डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म जैसी कहानी। बहुत सी दुर्घटनाएं, आत्महत्याएं, इन सबका प्रभाव सकारात्मक नहीं होता। समाधान प्रस्तुत करना भी रचनाकार का धर्म होता है। कहानी में वैसे मोड़ डालने चाहिए।
रिप्लाय
योगेश
very emotional
रिप्लाय
Anup
nice apps
रिप्लाय
Dipti
nice story, sacchai k karib
रिप्लाय
Raman
suprb
रिप्लाय
Deepali
touching story
रिप्लाय
Disha
Aisi cases me jitni glti bachcho ki hoti h, usse zyada unke Parents ki hoti h. Agr unke pas bachcho ko dene k lie wqt or pyr nhi h, to unhe koi haq nhi h unhe duniya me lane ka or unki zindagi barbaad krne ka... Kripaya abhibhavak gan smjhe k bachche ko kya chahie... Use pyr de, smy de taki vo koi b baat apse khne me hichke ni... Bht hi umda kahani h... Lekhika ji ko meri trf se dhero shubhkamnae....
रिप्लाय
shivanand
Bahut he umda
रिप्लाय
Abhishek
इस भौतिकवादी दुनिया में सच्चे प्यार और सच्चे प्यार की ओट में छुपे धोखे को इन्सान समझे तो आखिर समझे कैसे, ना जाने कितनी मासूम जिंदगियों को इसकी कीमत चुकानी पड़ी है!
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.