Arun
बहुत ही मार्मिक रचना
रिप्लाय
Neh Sunita
बेहतरीन कहानी
रिप्लाय
sachin
nice story
रिप्लाय
प्रदीप
छोटी सी बात कही बच्चे ने पर सारगर्भित बात कही
रिप्लाय
Amit Kumar
bakwas
रिप्लाय
Akash
oh god so much drama with poor story..
रिप्लाय
janakdev
केशव मोहन पांडेय की रचना‘डर’ अच्छी लगी. सोनू को दूसरे मर्दों से मां का हंसना व बतियाना गंवारा लगता है. क्योंकि मां के हंसना खामियाजा उसने अपने बाप को खोकर भुगतना पड़ा है. अब उसे डर है कि उसकी मां उसे छोड़ कर कहीं और न भाग जाये. लेखक ने सोनू को मनोदशा का सही चित्रण किया है.
रिप्लाय
ramanshu
(y) bhut khub
रिप्लाय
Surjeet
gud storiea
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.