सारांश

करीब डेढ़ घंटे बाद डॉक्टर बाहर निकला और मुस्कुराते हुए बोला , ” भगवान् का शुक्र है आपका बेटा अब खतरे से बाहर है। “ यह सुनते ही लड़के के परिजन खुश हो गए और डॉक्टर से सवाल पर सवाल पूछने लगे , ” वो कब तक पूरी तरह से ठीक हो जायेगा…… उसे डिस्चार्ज कब करेंगे….?…” पर डॉक्टर जिस तेजी से आया था उसी तेजी से वापस जाने लगा और लोगों से अपने सवाल नर्स से पूछने को कहा....
Jitendra
बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति वाह ।।
सत्या
बहुत ही अच्छा लिखा है आपने
कल्पना
नकारत्मक टिपण्णी देना आम बात है । बिना सोचे समझे अपने आप को प्रूव करने के लिए बिना सोचे समझे कुछ भी बोल देते है । बहुत अच्छी कहानी ।
Hemant
बहोत अच्छी थीं आपकी ये कहानी सुप्पर हिट
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2015-2016 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.