सारांश

लगभग हर किसी से बचपन में यह समय आता है की उसे बड़े भाई या बहन के प्यार को मिलाने के लिए postman का भी काम करना पड़ता है और इसी के में अच्छी ख़ासी धुलाई भी हो जाती है। तो दोस्तों प्रस्तुत है मेरी कहानी जो की मेरे ही अनुभवों पर आधारित है इसमें एक दलित और एक ब्राह्मणी के अन्तर्द्वन्द को भी दर्शाया गया है।
MANOJ
सही मे यार.... बकवास लिखे हो एकदम से
Priti
Bor story aakhir 2009 me kaun sa chandrakanta aata, story me bhi km se km kuchh to satyata honi chahiye himesh rwshmiyan k gane aur chandrakanta...................?
Sandhya
Bechare but story was good👍
saurabh
भाइ मुझे अपने पिटने वाली बात कभी नही बताई
Kaushal Kumar
मनोरंजक
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.